सीतामढ़ी दंगे पर पोपुलर फ्रंट ने कहा खालिद अनवर जनता से माफी मांगे वरना उनके खिलाफ बड़े पैमाने पर युद्ध छेड़ देंगे

0
648

सीतामढ़ी बिहार मे हुए दंगों मे भीड़ द्वारा जैनुल अंसारी के कत्ल के बाद बिहार सरकार और प्रशासन अपनी नाकामी छिपाने मे लगी है सैफुर रहमान ने मिडया से बात करते हुए कहा की पिछले दिनों सीतामढ़ी बिहार में मानवता को दहला देने वाला दंगा उत्पन्न हुआ जिसमें एक 80 वर्षीय जैनुल अंसारी को कत्ल कर के जला दिया गया लेकिन इससे भी ज्यादा दुखद बात ये है कि अब जदयू के MLC व वरिष्ठ नेता खालिद अनवर यह कह कर रहे है कि जैनुल अंसारी को जलाने की कोशिश थी लेकिन उसे जलाया नहीं गया था और इसे कत्ल नहीं किया गया है। खालिद अनवर द्वारा सच्चाई को छिपाने का एक असफल प्रयास कह सकते है। संपादक शम्स तबरेज़ कासमी से बात करते हुए। खालिद अनवर ने कहा जैनुल अंसारी के कत्ल की खबर गलत है वहीं दूसरे किसी भी हत्या और संपत्ति के नुकसान की खबर को भी अफवाह बताया

उनके इस बयान के बाद लगातार महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया सामने आ रहा है मोमिनीन फाउंडेशन बिहार के अध्यक्ष और बाम सैफ के नेता शर्फुद्दीन कासमी ने कड़े शब्दों में प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पोपुलर फ्रंट, इमारते शरिया और खुद प्रशासन वहाँ हुए घटना को सही बताया है ऐसे में खालिद अनवर का यह बयान उनकी मानसिकता सोंंच दर्शाता है उन्हें इसके लिए जनता से माफी मांगनी चाहिए अगर वे माफी नही मांगते हैं तो हम उनके खिलाफ बड़े पैमाने पर युद्ध छेड़ देंगे
स्‍थानिय निवासी सूरज कुमार सिंह ने बताया कि यात्रियों की कार रोककर पहचान कर के महिलाओं और पुरुषों को मारा गया है उन्होंने कहा कि यह हिंसा पूरी तरह से योजनाबद्ध था, उन्हें प्रशासन का पूर्ण समर्थन था पोपुलर फ्रंट के राज्य सचिव तौसीफ आलम और डॉक्टर महबूब आलम ने सैफुर से बात करते हुए कहा कि करीब 23 दुकान और कई घर जलाए गए हैं एक होटल, चप्पल शोरूम सहित करीब 08 दुकानें और मधुबन मे 03 घर जिन्हें लूटा और जलाया गया है हम ने खुद देखा है तथा एक गैर-मुस्लिम भाई ने जलाए गए 23 दुकानों और घरों की पूरी जानकारी रखे हुए है,जो इन्होने हमे दिखाए है, तौसीफ आलम ने कहा कि हम न्याय के लिए कानूनी लड़ाई लड़ेंगे।

पोपुलर फ्रंट राज्य कमेटी सदस्य मोहम्मद सनाउल्लाह ने कहा कि खालिद अनवर का बयान पूरी तरह से झूठ पर आधारित है जो किसी के इशारे पर दिया गया लगता है उन्होंने कहा कि बिहार क्राइम ब्रांच द्वारा मिल्लत टाइम्स को भेजा गया नोटिस हक की आवाज को दबाने की एक साज़िश है, ऐसे समय मे हम मिल्लत टाइम्स के साथ खड़े हैं, मिल्लत टाइम्स खुद को अकेला महसूस न करे

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here