अंग्रेजी पढ़ना भी नहीं जानती है बिहार की पुलिस,तो कैसे चलेगा सुशासन बाबु की सरकार

0
302

इसे पुलिस की मनमानी कहें, कानून की कम जानकारी या फिर अंग्रेज़ी का अज्ञान, बिहार पुलिस ने अंग्रेजी में लिखे कोर्ट के आदेश को गिरफ्तारी वारंट समझ लिया. दरअसल यह मामला बिहार के जहानाबाद जिले का है, जहां पुलिस ने एक बेकसूर को न केवल गिरफ्तार किया बल्कि उसे कोर्ट के कटघरे तक पहुंचा डाला.

जिले के मखदुमपुर बाज़ार के रहने वाले व्यवसायी नीरज कुमार को पुलिस की नासमझी के कारण एक रात हवालात में गुज़ारनी पड़ी. पीड़ित ने बताया कि पूरी रात हवालात में काटने के बाद सुबह होते ही उन्हें हथकड़ी पहनकर पटना स्थित फैमिली कोर्ट में हाज़िर होना पड़ा.

यह भी पढेंमेरे कैप्टन राहुल गांधी हैं. उन्हेंं जहां जरूरत महसूस हुई, मुझे भेजा: नवजोत सिंह सिद्ध

नीरज कुमार ने बताया कि उनका अपनी पत्नी से पिछले छह वर्षों से विवाद चल रहा है. उसी के जीवनयापन भत्ता के लिए कोर्ट से उनकी संपत्ति के विवरण के लिए स्थानीय थाना में वारंट आया था, जिसे वहां तैनात अधिकारियों और पुलिस कर्मियों ने गिरफ्तारी वारंट समझ लिया और पच्चीस नवंबर को दुकान पर आकर गिरफ्तार कर लिया. इस दौरान नीरज लाख मिन्नत करते रहे, लेकिन इसके बावजूद पुलिसवालों ने एक न सुनी और गिरफ्तारी के बाद हथकड़ी लगा कर नीरज को हवालात में डाल दिया. वो तो भला हो कोर्ट का, जिसने पुलिस की इस कार्यशैली को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए गिरफ्तार युवक को तत्काल रिहाई का आदेश दिया.

इस संबंध में पुलिस के अधिकारी एएसपी पंकज कुमार ने बताया कि गिराफ्तार युवक की संपत्ति जांच करने का वारंट आया था, परंतु उसकी गिरफ्तारी कैसे हुई यह जांच का विषय है और जल्द ही जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी. इस घटना ने पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है.

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here