शहीद इंस्पेक्टर की बहन बोलीं- मैंने भाई खोया है, मुख्यमंत्री गऊ…गऊ…कर रहे हें, शर्म भी नहीं आती

0
449

शहीद इंस्पेक्टर की बहन बोलीं- मैंने भाई खोया है, मुख्यमंत्री गऊ…गऊ…कर रहे हें, शर्म भी नहीं आती

नई दिल्ली:उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर जनपद के स्याना में गोकशी की अफवाह पर माहौल खराब करने वाले दंगाइयों को काबू में करने की कोशिश करते हुए पुलिस इंसेक्टर सुबोध कुमार राठौड़ शहीद होगए हैं,जिन्हें दंगाईयों गोली मारकर शहीद किया है।

सुबोध कुमार का शुमार यूपी पुलिस के एक बहादुर जाँबाज़ ऑफिसर के रूप में होता था,जहां जहां उनकी तैनाती हुई आम जनता से सीधा ताल्लुक़ रखते थे,इस कारण से लोगो का उनसे काफी जुड़ाव था।

एटा जिले के रहने वाले पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार राठौर की मौत से उनके पैतृक गांव तिरिगवां में गम और गुस्सा देखा जा रहा है। परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है। योगी सरकार की बेरुखी से उनके अंदर गुस्सा भी है। इंस्पेक्टर की बहन ने भाई को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग की है। वहीं गोरक्षा के नाम पर जो कुछ भी हो रहा है, उसे लेकर बड़ी बात कही है।

जांबाज पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की मौत पर उनकी बहन मनीषा का गुस्सा फूट पड़ा। मनीषा ने रोते हुए कहा कि मैंने भाई खोया है। मुख्यमंत्री गऊ…गऊ.. कर रहे हैं। वो खुद रक्षा नहीं कर पा रहे तो हम लोग क्या करेंगे। शर्म आनी चाहिए उन्हें।

मनीषा ने कहा कि एक भी बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हमारे परिवार से मिलने की कोशिश नहीं की है। उन्होंने कहा कि गऊ हमारी माता है। हम मानते हैं, लेकिन उस माता के लिए हमारे भाई (सुबोध कुमार) ने अपनी जान दी है।

मेरे भाई ने वीरता का काम किया है, लेकिन अब मेरा परिवार क्या करेगा

पुलिस इंस्पेक्टर की बहन ने कहा कि मेरे भाई ने वीरता का काम किया है, लेकिन अब मेरा परिवार क्या करेगा। इसका जवाब मुख्यमंत्री आकर दें। मनीषा ने मांग की है कि उनके भाई को शहीद घोषित किया जाए। गांव में उनके नाम से स्मारक बनवाया जाए।

हमारा भाई एक जाबांज अफसर था.” सुबोध कुमार अखलाक हत्याकांड की जांच कर रहे थे. इसी वजह से उनकी हत्या हुई. यह पुलिस की साजिश है. उन्होंने भाई को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग करते हुए कहा कि पैतृक गांव में उनका स्मारक बनाया जाए

रोते हुए मनीषा ने कहा कि सुबोध कुमार कोई मामूली हस्ती नहीं था। इनसे पहले पिता ने जान गंवाई। 50 लाख के मुआवजे पर मनीषा ने कहा कि इतने रुपयों से क्या होता है। मेरे भाई को शहीद घोषित किया जाए ताकि दुनिया सलाम करे।

बुलंदशहर के स्याना कोतवाली के महाव गांव में सोमवार को गोकशी के बाद भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हो गई। घटना एक युवक भी मारा गया है। उपद्रवियों ने कई वाहनों में आग लगा दी थी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here