सीतामढ़ी दंगे पर पोपुलर फ्रंट ने कहा खालिद अनवर जनता से माफी मांगे वरना उनके खिलाफ बड़े पैमाने पर युद्ध छेड़ देंगे

सीतामढ़ी बिहार मे हुए दंगों मे भीड़ द्वारा जैनुल अंसारी के कत्ल के बाद बिहार सरकार और प्रशासन अपनी नाकामी छिपाने मे लगी है सैफुर रहमान ने मिडया से बात करते हुए कहा की पिछले दिनों सीतामढ़ी बिहार में मानवता को दहला देने वाला दंगा उत्पन्न हुआ जिसमें एक 80 वर्षीय जैनुल अंसारी को कत्ल कर के जला दिया गया लेकिन इससे भी ज्यादा दुखद बात ये है कि अब जदयू के MLC व वरिष्ठ नेता खालिद अनवर यह कह कर रहे है कि जैनुल अंसारी को जलाने की कोशिश थी लेकिन उसे जलाया नहीं गया था और इसे कत्ल नहीं किया गया है। खालिद अनवर द्वारा सच्चाई को छिपाने का एक असफल प्रयास कह सकते है। संपादक शम्स तबरेज़ कासमी से बात करते हुए। खालिद अनवर ने कहा जैनुल अंसारी के कत्ल की खबर गलत है वहीं दूसरे किसी भी हत्या और संपत्ति के नुकसान की खबर को भी अफवाह बताया

उनके इस बयान के बाद लगातार महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया सामने आ रहा है मोमिनीन फाउंडेशन बिहार के अध्यक्ष और बाम सैफ के नेता शर्फुद्दीन कासमी ने कड़े शब्दों में प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पोपुलर फ्रंट, इमारते शरिया और खुद प्रशासन वहाँ हुए घटना को सही बताया है ऐसे में खालिद अनवर का यह बयान उनकी मानसिकता सोंंच दर्शाता है उन्हें इसके लिए जनता से माफी मांगनी चाहिए अगर वे माफी नही मांगते हैं तो हम उनके खिलाफ बड़े पैमाने पर युद्ध छेड़ देंगे
स्‍थानिय निवासी सूरज कुमार सिंह ने बताया कि यात्रियों की कार रोककर पहचान कर के महिलाओं और पुरुषों को मारा गया है उन्होंने कहा कि यह हिंसा पूरी तरह से योजनाबद्ध था, उन्हें प्रशासन का पूर्ण समर्थन था पोपुलर फ्रंट के राज्य सचिव तौसीफ आलम और डॉक्टर महबूब आलम ने सैफुर से बात करते हुए कहा कि करीब 23 दुकान और कई घर जलाए गए हैं एक होटल, चप्पल शोरूम सहित करीब 08 दुकानें और मधुबन मे 03 घर जिन्हें लूटा और जलाया गया है हम ने खुद देखा है तथा एक गैर-मुस्लिम भाई ने जलाए गए 23 दुकानों और घरों की पूरी जानकारी रखे हुए है,जो इन्होने हमे दिखाए है, तौसीफ आलम ने कहा कि हम न्याय के लिए कानूनी लड़ाई लड़ेंगे।

पोपुलर फ्रंट राज्य कमेटी सदस्य मोहम्मद सनाउल्लाह ने कहा कि खालिद अनवर का बयान पूरी तरह से झूठ पर आधारित है जो किसी के इशारे पर दिया गया लगता है उन्होंने कहा कि बिहार क्राइम ब्रांच द्वारा मिल्लत टाइम्स को भेजा गया नोटिस हक की आवाज को दबाने की एक साज़िश है, ऐसे समय मे हम मिल्लत टाइम्स के साथ खड़े हैं, मिल्लत टाइम्स खुद को अकेला महसूस न करे

आप भी अपना लेख और विज्ञापन इस मेल jjpnewsdesk@gmail.com पर भेज सकते हैं

loading...