भारत तुर्की के बीच हुआ समझौता,राष्ट्रपति एर्दोगान ने प्रधनमंत्री मोदी को दिया दिलासा

नई दिल्ली: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब एर्दोगान और अबुधाबी के शहज़ादे शेख मोहम्मद बिन जायेद अल-नाह्यान से फोन पर वार्ता की है, वहीं सऊदी अरब के कनिष्ठ विदेश मंत्री ने पीएम मोदी मुलाकात की है. भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में बढ़े तनाव के बीच यह वार्तालाप और मुलाकात हुई है. हालांकि, यह साफ़ नहीं हुआ है कि तुर्की और यूएई के नेताओं के साथ पीएम मोदी की फोन पर हुई वार्तालाप में भारत-पाक तनाव पर चर्चा हुई है या नहीं।

सरकारी सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया है कि भारत और पाकिस्तान के मध्य तनाव कम करने के लिए किसी देश ने मध्यस्थता के लिए कोई पेशकश नहीं की है. हालांकि, पाकिस्तान ऐसा करने के लिए कई सारे देशों से संपर्क कर रहा था।

एर्दोगान के साथ प्रधानमंत्री मोदी की हुई वार्तालाप के बारे में आधिकारिक बयान में कहा गया है कि पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद वैश्विक शांति एवं सुरक्षा के लिए गंभीर संकट बना हुआ है. विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा है कि पीएम मोदी ने सभी संबंधित देशों द्वारा आतंकवाद के विरुद्ध तत्काल, दिखने लायक और ठोस कार्रवाई की अहमियत पर बल दिया है।

बयान के अनुसार, एर्दोआन ने सोमवार को पीएम मोदी को फोन किया था और देश में हुए हाल ही के आतंकी हमलों में हुई मौतों पर शोक जाहिर किया है एवं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गत 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में बल के 44 जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद 26 फरवरी को इंडियन एयर फ़ोर्स ने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमला किया था जिससे दोनों देशों के बीच तनाव गहरा गया था।

आप भी अपना लेख और विज्ञापन इस मेल jjpnewsdesk@gmail.com पर भेज सकते हैं

loading...