नौजवानों के साथ हर पार्टी की सरकारों ने अत्याचार किया है:रवीश कुमार

करीब डेढ़ साल से नौकरी सीरीज़ कर रहा हूं। कई बार खुद उकता जाता हूं कई बार लोग तंग कर देते हैं कि कोई और टापिक नहीं मिलता इसे। इन सबकी समस्याएं इतनी हैं कि मैं सक्षम नहीं था। हाथ जोड़ता था कि मेरे पास संसाधन नहीं है। मैं नहीं कर सकता। यू ट्यूब पर नौकरी सीरीज़ कोई न के बराबर देखा जाता है। आम तौर पर मेरे किसी शो को दो लाख से दस लाख, पचीस लाख तक व्यूज़ मिल जाते हैं। मगर नौकरी सीरीज़ दस बीस हज़ार में दम तोड़ देती है।इसके बाद भी ये करता रहता हूं। एक यकीन बन गया है कि नौजवानों के साथ हर पार्टी की सरकारों ने अत्याचार किया है। परीक्षाओं में उलझाया है। मगर इस सीरीज़ के कारण 50,000 से अधिक नौजवानों को नियुक्ति पत्र मिले है। उसके बाद गिनती बंद कर दी थी। आज एक पत्र आया और शुक्रिया करने वाले ने याद दिलाया कि 4963 लोगों के लिए हमने प्राइम टाइम में दिखाया था उनमें से 2700 की नियुक्ति हुई है। बाकियों की भी जल्दी हो जाएगी। मैंने इस पत्र से नाम, पद और विभाग हटा दिया है।

आदरणीय,
रवीश सर आपको मेरा प्यार भरा नमस्कार सर आज आपको बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि आज हमारी कनिष्ठ सहायक पद पर उत्तर प्रदेश के एक जिले में नियुक्ति हुई है आपको दिल से बहुत आभार प्रकट करते है कि आपने हम प्रतियोगी छात्रों के दर्द को समझा था और हमारी भर्ती को अपने प्राइम टाइम में जगह दी थी जिसकी वजह से सरकार बैकफुट पर आई और हमारे रिजल्ट घोषित किये और आज हमारे हाँथ में एक नौकरी है आपका दिल से बहुत आभार🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻
धन्यवाद
कनिष्ठ सहायक
सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग
उत्तर प्रदेश

नौकरी सीरीज़ की कहानी में ज्यादातर वे नौजवान किरदार थे, जो मुझे गाली देते थे। गद्दार समझते थे। उनकी ईमानदारी यह थी कि मुझसे ये सारी बातें लिखकर स्वीकार करते थे। यह भी लिखते थे कि हम आपको पसंद नहीं करते मगर क्या आप हमारे लिए बोलेंगे। मैं तब भी दिखाता था। उसके बाद बहुत लोग कहते थे कि हमने गाली दी है मगर अब नहीं देंगे।

मेरी आलोचना करते रहिए। गाली मत दीजिए और मारने की बात मत कीजिए। मैं एक प्यारा इंसान हूं। बाकी नागरिक बने रहिए। हर सरकार से कहिए, हमारा वोट चाहिए तो ईमानदार परीक्षा व्यवस्था दो। हर परीक्षा को जल्दी पूरी कर नौकरी दो। नियुक्ति पत्र दो। सभी नौजवानों को शुभकामनाएं. खूब सारा प्यार।

आप भी अपना लेख और विज्ञापन इस मेल jjpnewsdesk@gmail.com पर भेज सकते हैं

loading...