मस्जिद हम’ले में शहीद नमाज़ियों को 60 देशों ने न्यूज़ीलैंड में दी श्रद्धांजलि

न्यूज़ीलैंड के शहर क्राइस्टचर्च की मस्जिदों में हुए आतंकी हमले में 50 नमाज़ी शहीद होगए थे जिसके दुनियाभर के लोगों ने इस हमले पर अपनी संवेदना जताई थी,और प्रधानमंत्री जैसिंडा अडर्न को चिठ्ठी लिखकर दुःख की घड़ी में साथ होने की बात कही थी।

हमले के पन्द्रह दिन के बाद जुमे के दिन अब दुनियाभर के अलग अलग राष्ट्रों की ओर से श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में पहुंचीं प्रधानमंत्री जसिंदा आर्डर्न ने नस्लवाद को खारिज करने की अपील की।

अलनूर मस्जिद के पास स्थित एक पार्क में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में हजारों लोग शामिल हुए। इनमें तकरीबन 60 देशों ने अपने प्रतिनिधि भी भेजे। इस मस्जिद में 42 लोग हमले के शिकार हुए थे।
आर्डर्न ने अपने भाषण में कहा, “नस्लवाद मौजूद है और यहां उसका स्वागत नहीं है। किसी आस्था या धर्म का अनुपालन करने वालों की स्वतंत्रता पर हमला यहां स्वीकार्य नहीं है। किसी भी प्रकार की हिंसा या अतिवाद यहां स्वीकार्य नहीं है।”

उन्होंने कहा कि चरमपंथ से लड़ाई अकेले सरकार की जिम्मेदारी नहीं हो सकती। यह लोगों के हाथ में भी है, हमारे शब्दों, हमारे कामों, हमारी रोजमर्रा की जाने वाले नेकी के जरिए हमें इससे लड़ना होगा।

आर्डर्न के संबोधन से पहले हमले के पीड़ित फरीद अहमद ने प्रार्थना पढ़ी और कहा कि उन्होंने हत्यारे को माफ कर दिया है। उन्होंने कहा, “मैं एक ऐसा दिल चाहता हूं जिसमें प्यार भरा हो, जिसमें रहमदिली हो..इसीलिए मैंने शांति को चुना, मैंने प्रेम को चुना और माफ कर दिया।”

कार्यक्रम में न्यूजीलैंड के गायक-गीतकार मार्लोन विलियम्स और अमेरिकी गायक यूसुफ इस्लाम (जो इस्लाम धर्म अपनाने से पहले कैट स्टीवेंस के नाम से जाने जाते थे) ने अपने गीतों से मृतकों को श्रद्धांजलि दी।

loading...

आप भी अपना लेख और विज्ञापन इस मेल jjpnewsdesk@gmail.com पर भेज सकते हैं