25 अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने अमित शाह को लिखा खुला पत्र ,गर्भवती सफूरा ज़रगार के रिहाई की मांग की

25 international organizations write open letter to Amit Shah, demanding release Safura Zargar

नई दिल्ली (सुमरा परवेज़ )एमनेस्टी इंटरनेशनल ( AI ), ह्यूमन राइट्स वॉच ( HRW) और इंटरनेशनल कमीशन ऑफ ज्यूरिस्ट (ICJ) सहित पच्चीस अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने भारत के गृह मंत्री अमित शाह को एक खुला पत्र लिख कर CAA का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी छात्रों को तत्काल रिहा करने की मांग की है।

पत्र के पहले पैराग्राफ में लिखा गया है कि“ हम, चार महीने की गर्भवती सफूरा ज़रगार, मीरान हैदर, शिफा-उर-रहमान और शारजील इमाम, जो कि UAPA के तहत हिरासत में हैं, उनके लिए बहुत चिंतित हैं और उनकी रिहाई की मांग करते हैं।

संगठनों ने कहा कि उनका मानना ​​है कि प्रदर्शनकारी छात्र मानव अधिकारों के लिए शांतिपूर्ण प्रदर्शन में शामिल थे, इस तरह नज़रबंद करना संविधान के खिलाफ है।

इसके साथ ही यह भी कहा गया कि कोविड-19 जैसी महामारी के दौरान छात्रों को जेल में रखना उनके स्वस्थ और उनकी जान के लिए हानिकारक है।पत्र में जेल में बंद जामिया के छात्र कार्यकर्ता सफूरा ज़रगार के स्वास्थ्य के बारे में भी चिंता जताई गई है।

खासतौर से सफूरा ज़रगार की गर्भावस्था को लेकर चिंता जताई गई। इसमें कहा गया कि गर्भवती होने के कारण उनकी रिहाई को प्राथमिकता देनी चाहिए।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...