किसानों को पीटे जाने पर भड़कीं सपना चौधरी, बोली – किसानों को सड़कों पर करना पड़ रहा है संघर्ष, दुख की बात है

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को लगभग 11 महीने होने को जा रहे हैं। मोदी सरकार और किसानों के बीच अब तक कृषि कानूनों के मुद्दे पर कोई हल नहीं निकल पाया है।

सड़कों पर बैठे किसान तीनों कृषि कानूनों को रद्द करवाने और MSP पर कानून बनाने की मांग पर अड़े हुए हैं।

दिल्ली के साथ-साथ अन्य राज्यों में भी किसान संगठनों द्वारा प्रदर्शन किए जा रहे हैं। कई नेता और देश की दिग्गज हस्तियां किसानों के समर्थन में खड़ी हुई हैं।

इस मामले में हरियाणा की जानी-मानी हस्ती सपना चौधरी ने भी मोदी सरकार के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया है। उन्होंने मीडिया से बातचीत के दौरान किसानों के मुद्दे पर राय रखी है।

इस दौरान सपना चौधरी ने कहा कि देश के किसानों को परेशान ना किया जाए। उन्हें कोई कानून नहीं चाहिए, उन्हें खुले रहने दीजिए। जल्दी से इस मुद्दे को सुलझाया जाए।

सड़कों पर किसानों को देखकर बहुत ज्यादा दुख होता है। मैंने कई बार आते जाते उन्हें सड़कों पर बैठकर प्रदर्शन करते हुए देखा है।

आपको यह सब नहीं करना चाहिए। अभी थोड़े दिन पहले भी किसानों को पुलिस के द्वारा पीटा गया है। यह सब चीजें नहीं अच्छी लगती हैं।

हिंदुस्तान हमारा है और हिंदुस्तान के लोग भी हमारे हैं। हम सब परिवार है। अगर मेरी अपील से फर्क पड़ता है। तो मैं मोदी सरकार से अपील करना चाहूंगी कि सबकुछ जल्द से जल्द ठीक किया जाए।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले किसी भी सरकार के शासनकाल में कोई प्रदर्शन इतने लंबे समय तक नहीं चला है।

बीते साल मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को किसान विरोधी करार देते हुए पंजाब और हरियाणा के किसान संगठनों ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला था।

इस दौरान किसान प्रदर्शनकारियों को कई बार पुलिस की बर्बर कार्रवाई का सामना भी करना पड़ा है। जिसकी सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हुई है।

लेकिन किसानों के हौसले बुलंद हैं। किसान संगठनों का कहना है कि जब तक मोदी सरकार कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती। तब तक उन्होंने किसान आंदोलन चलाने का फैसला लिया है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...