असद्दुीन ओवैसी ने गंगा किनारे दबे शवों के कफ़न नोचवाने पर बोले सरकार अपने जुर्म छुपाने के लिए सबूत मिटाने में लगी हैं।

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार द्वारा अब प्रयागराज में नदियों के किनारे रेत में दबे शवों से भगवा कफन हटवाने का मामला सामने आया है। ए आई एम के अध्यक्ष असद्दुीन ओवैसी ने कुछ मजदूरों द्वारा रेत में दबे शवों से भगवा कफ़न खींचने के वायरल वीडियो पर योगी सरकार को घेरते हुए इसे कमी को छुपाने का बताया हैं।

ए आई एम के अध्यक्ष असद्दुीन ओवैसी ने घटना पर एक ट्वीट करते हुए कहा, “गंगा किनारे क़ब्रों से पीली चादरें हटाई जा रही हैं ताकि फ़ोटो में उनकी पहचान न हो।हमने हज़ारों जिंदागियों को

की मुजरिमाना ग़फ़लत-ओ-तसाहली की वजह से खोया है। अब सरकार अपने जुर्म छुपाने के लिए सबूत मिटाने में लगी है।

।”

उत्तर प्रदेश में कोरोना के कहर के बीच बड़ी संख्या में रेत की कब्रों में दफन या गंगा नदी के किनारे पर बहे हुए शव मिलने के बाद राज्य की बीजेपी सरकार की कड़ी आलोचना हुई है, क्योंकि संकट के इस समय में लोगों को दाह संस्कार का खर्च वहन करना मुश्किल हो गया है। ऐसे में बड़े पैमाने पर प्रयागराज समेत प्रदेश के विभिन्न जिलों में नदियों के किनारे लोगों ने अपने परिजनों के शव दफना दिए या नदियों में बहा दिए।

एक विदेशी समाचार एजेंसी द्वारा शूट किए गए एक ड्रोन फुटेज में प्रयागराज में नदी किनारे दफन सैकड़ों शवों को दिखाया गया है, जिन्हें बांस की छड़ियों से अलग किया गया है और वे भगवा कपड़ों से ढंके हुए हैं। प्रयागराज की तस्वीरों में गंगा के किनारे रेत में दबे सैकड़ों शवों को दिखाया गया है। इसके बाद आस-पास के इलाकों में रहने वाले लोगों में दहशत फैल गई क्योंकि कई लोगों ने शिकायत की कि कुत्ते कब्र खोद रहे थे और नदी के किनारे शवों को खा रहे थे।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

रहें हर खबर से अपडेट जिसे कोई नहीं दिखाता
loading...