भारत को बड़ा झटका, कोविशील्ड लगवाने वालों को EU नहीं देगा वैक्सीन पासपोर्ट

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

देश में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए वैक्सीनशन अभियान चल रहा है। देश में ज्यादातर लोगों को कोविशील्ड वैक्सीन की डोज दी जा रही है। इसी बीच अब उन लोगों की टेंशन बढ़ गई है जिनको कोविशील्ड लगी है और वे विदेश यात्रा पर जाने वाले हैं। दरअसल कोविशील्ड को कई देशों ने अभी तक मान्यता नहीं दी है। कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वाले यात्रियों को यूरोपीय संघ के देश अपने यहां आने की इजाजत नहीं देंगे।

EU के कई सदस्य देशों ने डिजिटल वैक्सीन पासपोर्ट जारी करना शुरू कर दिया है। डिजिटल वैक्सीन पासपोर्ट के जरिए यूरोपीय लोगों को काम या पर्यटन के लिए स्वतंत्र रूप से आने-जाने की अनुमति देगा। पहले EU ने सदस्य देशों को कोविड-19 वैक्सीन की किसी भी प्रकार की परवाह किए बिना प्रमाण पत्र जारी करने को कहा था लेकिन ग्रीन पास की तकनीकी विशिष्टताओं से मिले संकेत के मुताबिक अब EU सिर्फ उनको ही परमिशन देगा जिनको EU-wide marketing authorization से प्राप्त करने वाले कोविड टीके लगे हों।

यूरोपीय मेडिसन एजेंसी (EMA) की ओर से अभी सिर्फ चार कोविड वैक्सीन को मंजूरी दी गई है, जिनमें फाइजर, मॉर्डना, एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन का नाम शामिल है। इन चारों में से अगर किसी को कोई भी वैक्सीन लगी है तो वो यूरोपीय देशों की यात्रा पर जा सकेंगे। पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) निर्मित एस्ट्राजेनेका के कोविशील्ड को यूरोपीय बाजार के लिए ईएमए ने अभी मंजूरी नहीं दी है। हालांकि कोविशील्ड को WHO से मंजूरी मिल चुकी है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...