यूपी में योगी की प्रयोगकार्य में ही 2022 का चुनाव लड़ेगी भाजपा , संगठन में हो सकते हैं बदलाव

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश की राजनीति में बीते कुछ समय से अफवाहों का बाजार गर्म था. खबरें आ रही थीं लेकिन उन पर कोई खास प्रतिक्रिया नहीं दे रहा था. अब दिल्ली से लखनऊ आए बीजेपी नेताओं ने राजधानी में कई वरिष्ठ मंत्रियों एक-एक कर के बात की. इसके बाद यह स्पष्ट हो गया है कि राज्य में मुख्यमंत्री योगी बाबा पार्टी के नेता बने रहेंगे. इतना ही नहीं पार्टी उनकी ही अगुआई में आगामी विधानसभा चुनाव में उतरेगी.

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव बी.एल. संतोष ने पिछले पांच हफ्तों में मुख्यमंत्री योगी की अगुआई में करोना स्थिति के ‘प्रभावी प्रबंधन’ की प्रशंसा करते हुए यूपी में नेतृत्व परिवर्तन के बारे में सभी अफवाहों को लगभग खारिज कर दिया है.

उधर, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधा मोहन सिंह ने नेतृत्व में बदलाव की खबरों को ‘कपोल कल्पना’ और ‘किसी के दिमाग की उपज करार’ दिया है. संतोष के साथ लखनऊ के तीन दिवसीय दौरे पर आए सिंह ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से मिलने के बाद उप मुख्यमंत्रियों केशव प्रसाद मौर्य तथा दिनेश शर्मा से मुलाकात की.

प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का पूरा समर्थनसभी संकेत इस ओर इशारा कर रहे हैं कि योगी को प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का पूरा समर्थन मिल रहा है. केंद्र में आकलन यह है कि आदित्यनाथ, यूपी में पार्टी के लिए सबसे अच्छे नेता हैं क्योंकि वह अपने शासन मॉडल, जमीन पर कड़ी मेहनत और साफ छवि के साथ वहां बेहद लोकप्रिय हैं. इन सबकी वजह से आलाकमान का विश्वास अब भी योगी में कायम है.

लेकिन पार्टी इकाई और यूपी कैबिनेट दोनों में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव होने वाले हैं. यूपी सरकार के एक मंत्री ने बताया, ‘कैबिनेट में फेरबदल होना है और जातीय समीकरणों को और संतुलित करने के लिए कुछ नए लोगों को शामिल किया जा सकता है जबकि कुछ मंत्रियों को यूपी चुनाव से पहले पार्टी को मजबूत करने के लिए संगठन में लाया जा सकता है.’

माना जा रहा है कि संतोष के लखनऊ दौरे में बीजेपी नेताओं की शिकायतें सुनी गईं और साल 2022 के राज्य चुनावों से पहले पार्टी के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में खुलकर बोलने का अवसर दिया. पार्टी नेता ने कहा- ‘इस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि योगी निर्विवाद नेता हैं.’

योगी आज भी पार्टी का सबसे बड़ा राज्य चेहरा बने हुए हैं. केशव प्रसाद मौर्य को छोड़कर अन्य वरिष्ठ बीजेपी नेता अब सक्रिय राज्य की राजनीति का हिस्सा नहीं हैं. यूपी में पिछले चुनाव में भाजपा के पास अलग-अलग जातियों से वोट अपनी ओर खींचने के लिए राजनाथ सिंह, कलराज मिश्रा, मनोज सिन्हा और केशव प्रसाद मौर्य सहित कई चेहरे थे, लेकिन प्रचार के लिए सबसे ज्यादा डिमांड सीएम योगी आदित्यनाथ की थी और अंततः उन्हें सीएम चुना गया. राजनाथ सिंह उस वक्त राज्य की राजनीति में वापस आने के लिए कभी इच्छुक नहीं थे. मनोज सिन्हा को हाल ही में उपराज्यपाल के रूप में जम्मू-कश्मीर भेजा गया था और कलराज मिश्रा को राज्यपाल के रूप में राजस्थान भेजा गया था. मौर्य यूपी सरकार में उपमुख्यमंत्री के पद पर बने हुए हैं.

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...