दोनों के भक्त दुखी न हों, ये पोस्ट राजनीतिक आस्थावानों के लिए बिल्कुल नहीं है। नागरिक इसे पढ़ सकते हैं।

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

बहुत पहले मैंने लिखा था कि नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल- ये दोनों अन्ना आंदोलन से निकले ज़िंदा घोटाले हैं। मनुष्य की शक्ल में घोटाले। ये दोनों इतने महान हैं कि मुझे कभी गलत नहीं साबित होने दिया। ये दोनों ही आये थे सिस्टम बदलने, लेकिन सत्ता में आने के बाद पोस्टर में, बैनर में, होर्डिंग में, पर्चे में, खंभे पे, दीवारों पे, पेड़ों पे, पुल पे, सड़कों पे, तारों पे, नारों में, झंडे में, झांकी में, सूती में, खाकी में, बस में, बांस में… जहां जहां संभव है, इनको अपना थोबड़ा हर जगह छापना है। ये जनता का पैसा फूंक कर प्रचार करते हैं कि मैं सबसे महान हूं। और इनके समर्थक! वल्लाह! वो तो जैसे इसीलिए पैदा हुए कि कोई आकर उनको उल्लू बना दे तो जीवन धन्य हो जाए।
अरे भैया, अइसा कौन सा विकास कर रहे हो कि विकास हुआ तो जनता नहीं जान पाई, लेकिन पोस्टर देखकर जान गई? माना कि अपने कामकाज का प्रचार करना सरकार का अधिकार है, लेकिन वो तो चुनाव के पहले होना चाहिए ना! अब ये क्या बात हुई कि आप पूरे पांच साल अपना थोबड़ा छपवाने के अलावा और कुछ सोच ही नहीं पा रहे हैं!
मजा तो ये देखिए कि एक जने का पंटर भीड़ बटोर कर नारा लगाता है कि फलाने काटे जाएंगे, धमाके काटे जाएंगे और दूसरा मुंह मे दही जमाकर बैठा रहता है।
मैं फिर दोहराता हूं कि ये दोनों 21वीं सदी के ऐसे महा घोटाले हैं जो मनुष्य की शक्ल में जिंदा हैं। इन्होंने भारत की पवित्र धरती को दूषित किया है जहां कोई सिरफिरा किसी को काटने का नारा लगाकर बच सकता है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...