पांच दिन तक मथुरा जेल में भूखे प्यासे रहे डॉ कफील खान, अदालत की योगी सरकार को फटकार

उत्तर प्रदेश :(सुमरा परवेज़) डॉक्टर कफील खान को रात लगभग 12:00 बजे मथुरा जेल से रिहा किया गया। रिहा होने के बाद रिपोर्टर्स से बात करते हुए डॉ कफील ने बताया कि हाईकोर्ट ने साफ कहा है कि मुझे एक बेबुनियाद और झूठे केस में फसाया गया था। मुझे 8 महीने तक एक गलत केस में अंदर रखा गया। जेल में 5 दिन तक मुझे बिना खाने और पानी के रखा गया । उन्होंने कहा कि मैं एसटीएफ टीम का धन्यवाद करता हूं कि मुझे मुंबई से उत्तर प्रदेश लाते वक्त रास्ते में मेरा एनकाउंटर नहीं किया।
आपको बता दें कि 1 सितंबर को हाईकोर्ट में डॉ कफील के ऊपर लगाई गई एनएसए (रासुका) को खारिज करते हुए उन्हें जल्द ही रिहा करने का आदेश दिया था।

देर रात लगभग 12:10 बजे डॉ कफील को मथुरा जेल से रिहा किया गया। डॉ कफील की पहली तस्वीर जो सोशल मीडिया पर आई उसमें वो बेहद कमज़ोर लग रहे थे।
बहार आने के बाद रिपोर्टर से बात करते हुए उन्होंने हाईकोर्ट और देश के लोगों का शुक्रिया अदा किया और बताया कि उन्हें जेल में काफी प्रताड़ित किया गया था।

आपको बता दें कि गलत केस के आरोप में लगभग 200 दिन डॉक्टर कफील मथुरा जेल में बंद थे। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उन पर लगाए गए सारे इल्ज़ाम को खारिज करते हुए 42 पन्नों का ऑर्डर दिया है। जिसमें साफ तौर पर कहा गया है कि “डॉ कफील ने जो अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भाषण दिया था वो राष्ट्रीय एकता का संदेश था। उन्होंने सरकार के खिलाफ बोला था लेकिन सरकार के खिलाफ बोलना कोई राजद्रोह नहीं है। इसके लिए उनके ऊपर NSA जैसा कानून लगाना गलत था।”
साथ ही हाईकोर्ट ने उन आरोपों को भी खारिज किया है जिसमें जेल प्रशासन ने आरोप लगाया था कि जेल के अंदर से डॉक्टर कफील का अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों से संपर्क है और वो उसके ज़रिए समाज में अराजकता फैला रहे हैं। अदालत ने साफ कहा कि आपके पास कोई ऐसे प्रमाण नहीं है जिससे यह साबित हो कि डॉ कफील अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों से मोबाइल फोन के ज़रिए संपर्क में थे।
अदालत ने इस बात पर भी फटकार लगाई है कि दूसरी बार नज़रबंदी करने से पहले डॉक्टर कफील या उन्हें उनके परिवार को स्पीड पोस्ट के ज़रिए इस बारे में कोई जानकारी क्यों नहीं दी गई ।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...