अफगानिस्तान को लेकर एर्दोगान बोले , तुर्की अब नहीं उठा सकता शरणार्थियों का नया बोझ

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

तुर्की के राष्ट्रपति रज़ब तैयब एर्दोगान ने तालिबान द्वारा सत्ता को अपने कब्जे में लेने के बाद अफगानिस्तान के वर्तमान हालातों को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि तुर्की अफगानिस्तान से आने वाले नए शरणार्थियों का बोझ नहीं उठा सकता। हालांकि उन्होने ये भी कहा कि तुर्की अफगानिस्तान में अपनी उपस्थिति बनाए रखेगा।

बता दें कि तुर्की ने एक छोटे तकनीकी समूह को छोड़कर अफगानिस्तान से अपने सभी नागरिकों और सैनिकों को निकाल लिया है। रविवार को मोंटेनेग्रो से वापस उड़ान पर तुर्की मीडिया के साथ एक साक्षात्कार में, एर्दोगन ने कहा कि काबुल में तुर्की दूतावास दो सप्ताह के लिए हवाई अड्डे से संचालन के बाद शहर में अपनी इमारत में स्थानांतरित हो गया था।

ब्रॉडकास्टर एनटीवी ने उनके हवाले से कहा, वे दूसरे दिन सिटी सेंटर में हमारे दूतावास की इमारत में लौट आए और वे यहां से अपनी गतिविधियां जारी रखे हुए हैं।” उन्होने कहा, हमारी योजना अब इस तरह से अपनी राजनयिक उपस्थिति बनाए रखने की है। हम सुरक्षा स्थिति के बारे में घटनाक्रम के अनुसार अपनी योजनाओं को लगातार अपडेट कर रहे हैं।

तुर्की द्वारा काबुल हवाई अड्डे के संचालन से अपने कदम पीछे लेते हुए उन्होने कहा, हम आपको सुरक्षा कैसे दे सकते हैं! अगर आपने सुरक्षा संभाल ली और वहां एक और खू’नखराबा हुआ तो हम इसे दुनिया को कैसे समझाएंगे! यह आसान काम नहीं है।

उल्लेखनीय है कि तालिबान ने तुर्की और कतर से काबुल एयरपोर्ट के संचालन के लिए मदद मांगी है। तुर्की इससे इंकार कर चुका। अब कतर के जवाब का इंतज़ार है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...