छह साल के इंतजार के बाद भी घर नहीं मिला तो सड़क उतरे लोग !

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

न्यू यॉर्क में रहने वाले हमारे एक मित्र ने घर ख़रीदने का अनुभव बताया। कहा कि एक दो घंटे कंप्यूटर पर बैठे और लोन लेने से लेकर दस्तावेज देने तक काम पूरा किया और मकान ख़रीद लिया। मकान मिल गया। भारत से बाहर जाने वाले लोग देख रहे हैं कि दूसरे देशों की ऐसी व्यवस्था से कितना लाभ है। शांति है।
मैं उन्हें बताने लगा कि भारत में मकान ख़रीदने के लिए लोगों को भयावह अनुभवों से गुजरना पड़ता है। बिल्डर ही भाग जाता है। जिस संपत्ति पर बैंक सारे काग़ज़ात की जाँच कर लोन देता है वह संपत्ति भी विवादित निकल जाती है और लोग फँस जाते हैं। फिर लोन देने के बाद भी कई कई साल तक मकान पर क़ब्ज़ा नहीं मिलता है। नोएडा ग्रेटर नोएडा के इलाक़े में आए दिन प्रदर्शन होते रहते हैं। इन सबकी कहानी दर्दनाक है।
लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि इतना सताए जाने के बाद इन लोगों का व्यवस्था के प्रति नज़रिया बदला हो। मतलब ऐसी व्यवस्था हो जिसमें पुलिस किसी न फँसाए, बैंक धोखा न दे, बिल्डर न लूट ले। बस अपना मकान मिल जाए इसलिए सब अलग अलग प्रदर्शन करते हैं। कभी कभी कुछ लोग मिल कर भी करते हैं। इन सताए हुए लोगों के बीच अगर आप सर्वे करेंगे तो ज़्यादातर इस राय के होंगे कि किसी मुस्लिम फेरी वाले का धर्म पूछ कर मारना ग़लत नहीं है। आए दिन ऐसी घटनाओं के समर्थन में खड़े होंगे। अपने बेटे की शादी के लिए दहेज ऐंठ रहे होंगे। यानी अपना सब कुछ गँवा कर भी वे व्यवस्था को सबके लिए बेहतर बनाने के सवालों का साथ नहीं देंगे।
नोट: कृपया बिल्डर और बैंक की ठगी के मामले में मुझसे संपर्क न करें। ऐसी कहानियों को करने के संसाधन नहीं हैं और कुछ होता भी नहीं है। रोज़ प्रदर्शन होता है, रोज़ छपता है और रोज़ हिन्दू मुसलमान होता है। रोज़ राष्ट्रपति से लेकर मुख्यमंत्री का बयान आता है कि राम राज आ गया है।

May be an image of textMay be an image of text

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...