कोरोना से बच गए तो पुलिस से मार दिए जाओगे ,ये योगी का यूपी है ,फैसल की मौत पर बोले पूर्व IAS अधिकारी

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

यूपी के उन्नाव में भटपुरी गांव में सब्जी का ठेला लगाने वाले फैसल नामक एक नाबालिग लड़के को पुलिस ने बुरी तरह पीट-पीटकर मार डाला। उसकी छाती उसकी पीठ, गर्दन उसके पैर जिस पर बूट से प्रहार किया गया।

जिसके कारण फैसल की मृत्यु हो गई। जिसके कारण आम जनता में आक्रोश दिख रहा है लोगों ने सब्ज़ी बेचने वाले की मौत से सड़क पर उतर कर बवाल खड़ा कर दिया हैं ।

जिस पर तमाम बड़े दिग्गज नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

इसी क्रम में इमरान प्रतापगढ़ी ने लिखा-“उन्नाव में पुलिस की पिटाई से मृत फैसल के परिजनों से मिलने पँहुची कॉंग्रेस ज़िलाध्यक्ष आरती वाजपेयी। आरोपी पुलिस वालों पर मुक़दमा दर्ज हुआ है लेकिन हम इस लड़ाई को इंसाफ़ मिलने तक लड़ते रहेंगे। कॉंग्रेस पार्टी मृतक के परिवारके लिए 50 लाख के मुआवज़े की मॉंग किए है !”

पूर्व पत्रकार और वर्तमान RLD नेता प्रशांत कनौजिया ने लिखा- “उन्नाव पुलिस द्वारा 17 वर्षीय सब्ज़ी बेचने वाले फैसल को कोविड 19 नियम उल्लंघन का आरोप में थाने लाकर इतना पीटा गया कि उसकी मौत हो गयी।

ये जंगलराज नहीं है तो क्या? यह एक सामान्य घटना नहीं बल्कि मुसलमानों के ख़िलाफ़ पुलिस बलों में यह नफ़रत कौन डाल रहा है?”

सपा नेता अनुराग भदौरिया ने लिखा- “उन्नाव में यूपी पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया एक सब्ज़ी बेच रहे युवक को पुलिस पिटती है और थाने ले जाते फिर हॉस्पिटल ले जाते है जहां उसकी मौत हो जाती है पुलिस पर हत्या की FIR हो और पीड़ित परिवार की सरकार आर्थिक मदद करे।”

इसी मामले पर विनोद कापड़ी बोले- “पुलिस थाने में आते ही तबियत कैसे ख़राब हो गई? कैसे चंद घंटो में ही मौत हो गई?

ये हत्या है हत्या!! पुलिस हिरासत में हत्या। आरोपियों को बर्खास्त करके गिरफ़्तार क्यों नहीं किया गया? लॉकडाउन में सब्ज़ी बेचने की सजा मौत होती है क्या ?”

पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने लिखा- “कोरोना से बच जाये तो पुलिस से मरवा दो। ये है, यूपी। #JusticeForFaisal

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...