दिल्ली दंगों के आरोपी ताहिर हुसैन को कोर्ट से मिले जमानत, प्रशांत भूषण बोले- पुलिस वालों पर मुकदमा चलाओ

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में दंगों मामले में सुनवाई करते हुए दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन समेत तीनों आरोपियों को बरी करने का बड़ा फैसला साझा कर दिया है।

इसके साथ ही दिल्ली दंगों के मामले में कोर्ट ने पुलिस को भी फटकार लगाई है। दिल्ली पुलिस ने देश के करदाताओं का पैसा बर्बादी की है।

कोर्ट का कहना है कि जांच एजेंसियों ने कोर्ट की आंखों पर भी पट्टी बांधने की कोशिश की। दिल्ली पुलिस का इस मामले में कोई वास्तविक जांच करने का इरादा नहीं था।

इस मामले में जांच करने के बाद दिल्ली पुलिस ने सिर्फ 5 गवाह पेश किए। जिनमें से एक पीड़ित ही है। जो भी सबूत कोर्ट के समक्ष पेश किए गए वह पर्याप्त नहीं है।

बिना किसी चश्मदीद गवाहों से मिले बिना तथ्यों के पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी।

इसके साथ ही कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से यह भी सवाल पूछा है कि जब दंगों में लूटपाट की जा रही थी, हिंसा हो रही थी। तब लोगों ने दंगा भड़काने वालों की भीड़ को कैसे नहीं देखा! यह बात बड़े सवाल खड़े करती है।

इस मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि दिल्ली पुलिस द्वारा दिल्ली दंगों की जांच इतिहास में अब तक की सबसे दुर्भावनापूर्ण और अयोग्य जांच के रूप में दर्ज की जाएगी। इसमें शामिल दिल्ली पुलिस के अधिकारियों पर मुकदमा चलाने की जरूरत है।

इस मामले में कोर्ट ने भी यह कहा है कि विभाजन के बाद दिल्ली में जब भी दिल्ली में भीषण सांप्रदायिक दंगों को देखा जाएगा।

तो नए वैज्ञानिक तरीकों का इस्तेमाल करके सही जांच करने में जांच एजेंसियों की विफलता निश्चित रूप से ही लोकतंत्र के रख वालों को पीड़ा देगी।

बता दें, दिल्ली दंगों में हरप्रीत सिंह आनंद की शिकायत पर दिल्ली पुलिस यह मामला दर्ज किया गया था। जिनकी दुकान को दंगों में जलाया गया था।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...