अबू धाबी की मस्जिद में नहीं लगया जाता धर्म का थप्पा,इफ्तार में सभी धर्म के लोग होते हैं शामिल

सँयुक्त अरब अमीरात की शेख ज़ायद ग्रैंड मस्जिद में पूरे साल लाखों लोग देश विदेश से मस्जिद को देखने पहुँचते हैं,क्योंकि ये मस्जिद अपनी खूबसूरती को लेकर दुनियाभर में मशहूर है,और काफी बड़ी है।

संयुक्त अरब अमीरात के अबुधाबी स्थित शेख जायेद ग्रेंड मस्जिद दुनिया की खुबसूरत मस्जिदों में से एक है,दुनियाभर से सेलिब्रिटी यहां पहुँचते रहते है लेकिन रमज़ान उल मुबारक के मुक़द्दस महीने में यहां इफ्तार का नज़ारा रूहानी रहता है और अरबों की मेहमाननवाज़ी की झलक को दर्शाता है।

शेख ज़ायद मस्जिद में इफ्तार के लिये तोप से गोला दागा जाता है जिसके बाद रोज़ेदार इफ्तार करते हैं,मस्जिद के बाहर के हिस्से में रमज़ान के मौके पर टैंट भी लगाये जाते हैं और इसके अलावा भी लम्बे लम्बे दस्तरख्वान लगते हैं।

रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि इस मस्जिद में हर रमज़ान में हर दिन तकरीबन 25000 से 30, 000 हजार रोजादार इफ्तार करते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक 2004 में शुरू हुई यह मस्जिद हर साल ऐसे ही इंतजामों के लिए जानी जाती है।

रमज़ान के महिने में सैकड़ों स्टाफ़ खुद इफ़्तार बनाकर रोजेदारों इफ्तार कराते हैं। इफ्तार के लिए सामानों का जो आकड़ा पेश किया जा रहा है, उसे सुनकर आप चौंक जायेंगे। चिकेन से लेकर लगभग सभी सामने कवींटल में बताए जा रहे हैं।

loading...
आप की बात हम लिखेंगे jjpnewsdesk@gmail.com भेजें

जे जे पी न्यूज़ एक स्वतंत्र, गैर लाभकारी संगठन है हमारी पत्रकारिता को जारी और आज़ाद रखने के लिए आर्थिक मदद करें.