बहिष्कार के बीच हो रहा है ईरान का राष्ट्रपति चुनाव, ईरानी जनता को इब्राहिम रायसी से खतरा

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

ईरान: ईरान में आज राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव हो रहा है।
सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई ने राजधानी तेहरान में सुबह 7:00 बजे के बाद पहला वोट डाला। अधिकारियों का कहना है कि शाम तक मतदान चलेगा जिसमे लगभग 60 मिलियन मतदान होने की आशंका है,परिणाम शनिवार दोपहर के आसपास होने की उम्मीद है।
परिणाम आने के पहले से ही अनुमान लगाया जा रहा है कि 60 वर्षीय इब्राहिम रायसी राष्ट्रपति की दौड़ में सबसे आगे हैं और उनका राष्ट्रपति बनना लगभग तय है।
पिछले काफी समय से जहां एक तरफ ईरानी मीडिया इब्राहिम को सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार के रूप में पेश कर रही थी,वहीं दूसरी ओर एक अखबार में छपी खबर के अनुसार रायसी के जु़ल्मों का शिकार हुई एक महिला ने दावा किया है कि इब्राहिम रायसी एक हत्यारा है जो ना सिर्फ ईरान में बल्कि दुनिया भर में आतंक और रक्तपात फैलाएगा।
द सन नामक पत्रिका में छपी रिपोर्ट के अनुसार 1980 के दशक में रायसी ने कथित रूप से कैदियों को चट्टानों से फेंकने,लोगों को बिजली के तारों से झटका देने,गर्भवती महिलाओं को यातना देने और हिंसा से जुड़े अन्य क्रूर आदेश दिए थे।
साथ ही 1988 में ईरान की जेल में बंद करीब 30,000 पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को दीवार के आगे खड़ा करके गोली मारने का हुक्म दिया था।
आपको बता दें 1980 से 1988 इब्राहिम रायसी को तेहरान की एक क्रांतिकारी अदालत के प्रॉसिक्यूटर के रूप में कार्यरत रहे। नियुक्ति के वक्त उनकी उम्र मात्र 20 वर्ष थी। तभी उन्हें पीएमओआई (People’s Mujahedin Organization of Iran) के कार्यकर्ताओं की हत्या करने के लिए चुने गए चार व्यक्तियों में से एक उनको चुना गया था।
इसी यातना से पीड़ित फरीदेह नामक महिला ने यह दावा किया है।
फरीदेह ने द सन के पत्रकार को बताया कि 21 साल की उम्र मे मुझे,मेरे पति और भाई को पीएमओआई के समर्थन करने के लिए हिरासत में लिया गया था।जिसे “मुजाहिदीन ए खल्क” के नाम से भी जाना जाता है।
जेल में उन्हें विभिन्न प्रकार से प्रताड़ित किया गया। उनके भाई और पति की हत्या करके क्रेन से लटकाया गया था।
उन्होंने बताया कि उस वक्त वह 8 माह से गर्भवती थी। उनका बेटा भी जेल में पैदा हुआ था,जो कभी अपने पिता से नहीं मिल सका।
उनका कहना है कि इब्राहिम रायसी अगर राष्ट्रपति पद पर आता हैं तो यह ईरान और बाकी दुनिया के लोगों के लिए विनाशकारी साबित होगा।
इसके अलावा एक सर्वे के अनुसार ईरान की लगभग 80% जनता चुनाव का बहिष्कार कर रही थी। लोगों का कहना था कि यह चुनाव नहीं बल्कि दिखावा मात्र है और राष्ट्रपति पहले से ही निर्धारित है।
दरअसल ईरान की जनता कट्टरपंथी मुल्लाह राज से परेशान हो चुकी है। जहां एक तरफ ईरान की अर्थव्यवस्था बद से बदतर हो चुकी है वहीं दूसरी ओर लोगों के पास ना अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं हैं ना ही नौकरी और एजुकेशन। साथ ही लोग नशे में डूबते जा रहे हैं।
सोशल मीडिया पर भी होने वाले इलेक्शन का बायकॉट चल रहा था। ट्विटर पर पिछले कई दिनों से #IraniansBoycottElections ट्रेंड कर रहा था। लोग मिलिटेंट्स की तरफ से भी काफी परेशान हैं।मिलिटेंट्स की तरफ से आम जनता को बहुत यातनाएं सहनी पड़ती है। ऐसे में अगर रायसी पद पर आ जाता है तो लोगो की मुश्किलें और बढ़ जाएंगी।
ज्ञात रहे इब्राहिम रायसी ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खामेनेई के करीबी सहयोगी और चाहिता है।साथ ही चुनाव में 72 वर्षीय मौजूदा राष्ट्रपति हसन रूहानी की जगह लेने के लिए 7 दावेदारों में से सबसे लोकप्रिय दावेदार हैं। ईरान की मीडिया हाउस भी उन्हें सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार के रूप में प्रस्तुत कर रहा है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...