मंबई में महिला के साथ `निर्भया जैसी दरिंदगी`, क्राइम ब्रांच ने बलात्कार आरोपी को किया गिरफ्तार

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

मंबई : बेहद दर्दनाक और खौफ़नाक ख़बर है. मुंबई में जिस 34 साल की महिला का बेरहमी से रेप किया गया था, उन्हें बचाया नहीं जा सका. मुंबई के राजावाडी अस्पताल में उनकी मौत हो गई है. अधिक खून बह जाने की वजह से 11 सितंबर, शनिवार दोपहर 12 बजे मौत हुई है. 9-10 सितंबर, शुक्रवार मुंबई के अंधेरी में स्थित साकीनाका में मोहन चौहान नाम के नराधम ने आधी रात को दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी थी. उसने बलात्कार कर महिला के गुप्तांग में लोहे का रॉड घुसेड़ दी थी.

बताया जा रहा है कि साकीनाका में एक टेंपो के अंदर इस युवती के साथ पहले रेप किया गया और फिर उसपर हमला किया गया. यह घटना 2012 के ‘निर्भया’ कांड की याद दिलाती है. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि घटना के कुछ ही घंटों के भीतर 45 साल के आरोपी मोहन चौहान को गिरफ्तार कर लिया गया है.

अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार तड़के पुलिस नियंत्रण कक्ष को फोन आया कि खैरानी रोड पर एक व्यक्ति एक महिला की पिटाई कर रहा है. अधिकारी ने बताया कि महिला का पता लगाने के लिए पुलिस टीम मौके पर पहुंची. खून से लथपथ महिला को नगर निगम संचालित राजावाड़ी अस्पताल ले जाया गया. प्रारंभिक जांच के अनुसार, उसके साथ बलात्कार किया गया और उसके निजी अंगों में लोहे की छड़ से हमला किया गया.

यह घटना सड़क किनारे खड़े एक टेंपो के अंदर हुई. अधिकारी ने बताया कि वाहन के अंदर भी खून के धब्बे मिले हैं. डॉक्टरों के मुताबिक महिला की हालत गंभीर है. कुछ सुरागों के आधार पर कार्रवाई करते हुए आरोपी चौहान को भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 307 (मडर का प्रयास) और 376 (रेप) के तहत गिरफ्तार किया गया और आगे की जांच जारी है.

बताया जा रहा है कि पीड़िता महिला का ऑपरेशन किया गया है, डॉक्टरों ने बताया है कि सरिया डालने के कारण महिला की आंत बाहर आ गई थी.

बता दें कि दिसंबर 2012 में देश की राजधानी दिल्ली में चलती बस के अंदर एक युवती से निर्दयता से गैंगरेप किया गया और बाद में उसपर हमला किया गया. जिसे बाद में ‘निर्भया’ कहा गया. इस घटना के बाद पूरे देश में आक्रोश फैल गया था. कई दिनों तक जिंदगी के संघर्ष के बाद अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी.

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...