देश भर में चक्का जाम की तैयारी, किसानों का साथ देने के लिए विपक्ष ने भी कसी कमर

नई दिल्ली: मोदी सरकार की तरफ से किसानों के लिए आए 3 विधेयकों का विरोध अब संसद से सड़क पर आने लगा है। किसान संगठनों ने 25 सितंबर को भारत बंद का समर्थन किया है। किसानों के साथ-साथ 18 विपक्ष पार्टियां भी इस विधेयक का विरोध कर रही हैं।

भारतीय किसान यूनियन समेत दो दर्जन से अधिक किसान संगठनों ने 25 सितंबर को देश भर में चक्का जाम करने का एलान किया है। भारतीय किसान यूनियन की प्रवक्ता राकेश टिकैट कहा कि “पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश,महाराष्ट्र, कर्नाटक सहित पूरे देश में किसान संगठन एकजुट होकर अपनी विचार धाराओं से ऊपर उठकर इस बंद का समर्थन करेंगे।”
उन्होंने आगे कहा कि “25 सितंबर से किसानों का कर्फ्यू रहेगा, हर तरफ चक्का जाम किया जाएगा। जब तक सरकार किसानों की उपज एमएसपी के मुताबिक खरीदे जाने की गारंटी नहीं देती तब तक आंदोलन चलता रहेगा।”

वही दूसरी ओर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (AIKSCC) के संयोजक वी पी सिंह ने कहा कि “अगर MSP की गारंटी नहीं दी गई तो देश भर में अशांति फैल जाएगी। सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि गरीबों की खाद्य सुरक्षा, बहुराष्ट्रीय कंपनियां और कॉर्पोरेट घरानों के हाथों में सौंप दी गई है।”

18 विपक्ष पार्टियां बुधवार को राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद से मिलकर विधेयकों को मंज़ूरी ना देने की अपील कर चुकी है। उन्होंने इन विधेयकों पर दोबारा विचार करने के लिए सदन वापस भेजने का अनुरोध किया है।
किसानों का रुद्र रूप देखते हुए दिल्ली हरियाणा बॉर्डर सील करने की तैयारी की गई है। वही दूसरी ओर पंजाब की भी कुछ ट्रेन रद्द कर दी गई है तथा कुछ को निलंबित करने का फैसला लिया गया है।

बंद से ठीक पहले केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि विपक्ष किसानों को गुमराह कर रही है। किसानों को कांग्रेस की बातों में आने की ज़रुरत नहीं है।

Donate to JJP News
अगर आपको लगता है कि हम आप कि आवाज़ बन रहे हैं ,तो हमें अपना योगदान कर आप भी हमारी आवाज़ बनें |

Donate Now

loading...