22 साल की उम्र मे पास की सबसे कठिन परीक्षा, बिहार का लाल पहली बार मे ही इस तरह बना IAS अधिकारी

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

बिहारी, मधुबनी: UPSC की परीक्षा को क्रैक करना हर युवा का अनमोल सपना होता है। हर साल आयोजित होने वाली इस कठिन परीक्षा में देश के लाखों युवा शामिल होते है, लेकिन सफलता कुछ ही युवाओं को मिलती है। आज हम बिहार राज्य के मधुबनी जिला के बाबूबरही प्रखंड के बरुआर के रहने वाले मुकुंद कुमार की बात करेंगे, जिन्होंने महज 22 साल की उम्र में UPSC जैसे कठिन परीक्षा को पहले ही प्रयास में क्रैक कर लिया।

मुकुंद ने महज 22 वर्ष की कम उम्र देश के सबसे कठिन परीक्षा में पहले ही प्रयास में सफलता हासिल की। इस परीक्षा में उन्होंने 54वीं रैंक प्राप्त की है। आपको बता दें कि, मुकुंद ने UPSC की परीक्षा वर्ष 2019 में दी थी, जिसका रिजल्ट वर्ष 2020 में अगस्त माह में आया।

कम उम्र में ऊंची कामयाबी हासिल करने वाले मुकुंद के पिता का नाम मनोज ठाकुर है, जो सुधा डेयरी का बूथ चलाते हैं और इनकी माता का नाम ममता देवी है, जो एक गृहणी है। साधारण परिवेश में रहने वाले मुकुंद के पिता ने अपने बेटे की पढ़ाई में कोई कमी नही आने दी। पिता की आमदनी ज्यादा नही थी कि परिवार को सारा ऐशो आराम दे सके लेकिन बेटे की जरूरतों में कोई कमी नही आने दी।

आपको बता दें कि, मुकुंद के पिता को डेयरी के काम से इतनी आमदनी नही होती थी कि परिवार को खर्चा उठाने के साथ-साथ पूरा ऐशो आराम दिया जा सके।लेकिन मुकुंद के पिता ने अपने बेटे के पढ़ाई में किसी भी चीज में कोई कमी नही की। इतना तक कि बेटे की पढ़ाई पूरी कराने के लिए जमीन तक बेच डाली और आज उनका बेटे ने पूरे देश मे उनका नाम रोशन किया।

मुकुंद ने अपनी शुरुआती पढ़ाई गांव के स्कूल से पूरी की। उसके बाद उनका सेलेक्शन सैनिक विद्यालय, गुवाहाटी में हो गया। उन्होंने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई सैनिक विद्यालय असम से पूरी की। 12वीं कक्षा में पढ़ाई करने के दौरान ही उनके मन मे सिविल सेवा में जाने की भावना जागृत हुई थी, तब से ही उन्होंने UPSC के बारे में जानकारी कलेक्ट करनी शुरू कर दी थी। 12वीं की परीक्षा में उनको काफी अच्छे परिणाम मिले थे। आगे की पढ़ाई पूरी करने के लिए मुकुंद दिल्ली चले गए और अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पी.जी.डी.ए.वी कॉलेज से अंग्रेजी साहित्य से पूरी की। कॉलेज के दौरान ही उन्होंने UPSC के परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दिया था और फिर  में वह परीक्षा में शामिल भी हुए और महज 22 साल की उम्र में पहले प्रयास मे ही UPSC जैसे कठिन परीक्षा में सफलता हासिल की।

मुकुंद बताते है कि, UPSC की परीक्षा की तैयारी करने से पहले लोगों को उसके सिलेबस की पूरी जानकारी होनी चाहिए। ज्यादातर देखा जाता है कि, लोग UPSC की परीक्षा 2 से 4 बार दे चुके है लेकिन उनको परीक्षा के सिलेबस की पूरी जानकारी नही है। दूसरी बात उन्होंने बताया कि, जब आप UPSC की तैयारी करें तो उसके लिए आपके पास एक उचित मकसद होनी चाहिए क्योंकि जब किसी के पास किसी काम को करने के लिए कोई मकसद होता है तो वह उसकी गहराई को अच्छे से समझता है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...