सांप्रदायिकता ने इस देश के नौजवानों को कॉलेज के बाहर मुर्ग़ा बनाकर खड़ा कर दिया :रवीश कुमार

सांप्रदायिकता ने इस देश के नौजवानों को कॉलेज के बाहर मुर्ग़ा बनाकर खड़ा कर दिया है। कान पकड़ कर मुर्गा तो मीडिया भी बना हुआ है। अच्छा तो नहीं लगा कि बिहार के मगध यूनिवर्सिटी के छात्र अपने प्रमाणपत्रों के लिए गिड़गिड़ा रहे हैं। अधिकारी के पाँव पर गिर रहे हैं। मैं तो हमेशा कहता हूँ। इस देश की जवानी में अब कोई कहानी नहीं बची है। हमारा युवा धर्म और जाति की पहचान की राजनीति का ग़ुलाम है। वह तो न अपनी पहचान को समझता है और न दूसरों की पहचान के सवाल को बर्दाश्त करता है। हिन्दू गौरव का झंडा उठाने वाले इन युवाओं को आज न कल समझना होगा कि उनका जीवन अलग तरह की नागरिकता और राजनीति की माँग करता है। बाक़ी मेरी बात न मानें तो कोई बात नहीं। वैसे भी आई टी सेल और व्हाट्स एप के प्रोपेगैंडा से निकलना आसान नहीं होता। रास्ते बंद हैं।

वैसे प्रधानमंत्री ने आठ साल में कोई खुली प्रेस कांफ्रेंस तो नहीं की है लेकिन जब कभी करेंगे, तब कुछ सवाल आप पूछ सकते हैं। चीन राष्ट्रपति शी जिनपिंग आजीवन पद पर रहेंगे और रूस के राष्ट्रपति पुतिन 2036 तक। दोनों ने संविधान बदल कर अपनी कुर्सी पक्की कर ली है। दोनों उदाहरणों को वे लोकतंत्र की समस्या की सूची में कहाँ रखेंगे? दोनों के मामले में उनकी क्या राय है?

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...