“दफ्तर कँगना का गिरा और दुखी गोदी पत्रकार हो रहे है “कंगना रनौत को लेकर ट्वीट करने पर ट्रोल हुई रुबिका लियाक़त

नई दिल्ली :अभिनेत्री कंगना रनौत की बयानबाजी उनपर भारी पड़ी और बीएमसी ने आज कंगना के पाली हिल स्थित कार्यालय के अवैध निर्माण को 24 घंटे के नोटिस के बाद ढहा दिया। दरअसल, कंगना के बयानों से बिफरी उद्धव ठाकरे सरकार ने अभिनेत्री के ‘सपने’ पर बुलडोजर चलवा दिया। बीएमसी की भारी-भरकम टीम सुबह-सुबह कंगना के बंगले पर पहुंची और तोड़फोड़ मचाकर चली गई।

दरअसल, बुधवार को ही बृहनमुंबई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (बीएमसी) ने बुलडोजर से कंगना के स्टूडियो के एक हिस्से को ध्वस्त कर दिया। बॉम्बे हाईकोर्ट ने बाद में कंगना रनौत के स्टूडियो को गिराने की बीएमसी की कार्रवाई पर रोक लगा दी। बीएमसी की इस करवाई पर बोली पत्रकार रुबिका लियाक़त “वाह बीएमसी ग़ज़ब मुस्तैदी दिखाई है! अब मुंबई में जल भराव नहीं होगा, ट्राफ़िक जाम नहीं होगा, सारे गड्ढे भर जाएँगे.. बारिश से कोई इमारत अब भरभरा कर नहीं गिरेगी… ‘सरकार’ आप ने बस एक इमारत गिराई है,लेकिन एक अदाकारा ने आपकी नींव हिला कर रख दी है

रुबिका लियाक़त इस ट्वीट को लेकर बुरी तरह ट्रोल हो गई रुबिका लियाक़त के इस ट्वीट पर टर यूजर्स ने अलग-अलग तरह के कमेंट्स किए। जहां कुछ लोगों ने कंगना के स्टूडियो को तोड़े जाने का विरोध किया, वहीं कुछ लोग अभिनेत्री के पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर कमेंट पर तंज कसा ।और रुबिका लियाक़त जमकर ट्रोल किया एक यूजर ने लिखा “वाह रूह-बिका 20 सैनिकों की शहादत की कोई खबर नहीं लेकिन कंगना ज्यादा जरूरी!”एक ने लिखा “दफ्तर कँगना का गिराया जा रहा है दुखी गोदी पत्रकार हो रहे है।

तो एक ने लिखा “तुम्हेंबुरा लगेगा क्यकि कँगना पाकिस्तान का नाम बार बार लें रही है,रुबिका हमारा हिंदुस्तान जिंदाबाद था, जिंदाबाद है और जिंदाबाद रहेगा और कंगना का पाकिस्तान मुर्दाबाद है और ज़ब तक संसार रहेगा तब तक मुर्दाबाद रहेगा और जिसको मुंबई हिंदुस्तान मे डर लगता है वो पाकिस्तान चला जाये

बता दें कि कंगना रनौत ने 2017 में यह बंगला खरीदा था और इस साल जनवरी में इसकी साज-सज्जा पूरी हुई थी। बीएमसी के 1979 के प्लान के मुताबिक यह बंगला आवासीय संपत्ति के तहत लिस्टेड है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...