सुभाषचंद्र बोस का पहला म्यूजियम तैयार, अंग्रेजों ने यहीं किया था नेताजी को कैद

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

नई दिल्लीः नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती आज है। इस मौके पर लोकसभा के सेंट्रल हाल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान पीएम मोदी ने नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके अलावा इंडिया गेट पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण भी प्रधानमंत्री मोदी करेंगे। उनकी जयंती के मौके पर पीएम मोदी ने ट्वीट करके नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की है। साथ ही पराक्रम दिवस की शुभकामनाएं भी देशवासियों को दी हैं।

गौरतलब है कि पीएम मोदी ने हाल ही में इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की ग्रेनाइट की प्रतिमा लगाए जाने की घोषणा की है, जब तक यह प्रतिमा तैयार नहीं हो जाती, उसके स्थान पर होलोग्राम प्रतिमा लगी रहेगी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा, एक राष्ट्रीय और वैश्विक प्रतीक नेताजी का बंगाल में उदय भारतीय इतिहास में बेजोड़ है। वह देशभक्ति, साहस, नेतृत्व, एकता व भाईचारे का प्रतीक हैं। उन्होंने कहा कि इस साल गणतंत्र दिवस परेड में नेताजी पर एक झांकी भी प्रदर्शित की जाएगी। मैं एक बार फिर केंद्र सरकार से अपील करती हूं कि नेताजी की जयंती को नेशनल हॉलिडे घोषित किया जाए, ताकि पूरा देश राष्ट्रीय नेता को श्रद्धांजलि दे सके और देशनायक दिसव को अच्छे तरीके से मना सके।

अब हर साल 26 जनवरी गणतंत्र दिवस समारोह 23 जनवरी से मनाया जाएगा। नेताजी की जयंती को इस समारोह में शामिल करने के लिए सरकार ने यह फैसला किया है। उनकी जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाएगा। यह इसी वर्ष से शुरू होगा।

रिपोर्ट के मुताबिक, नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा 28 फीट ऊंची होगी वहीं इसकी चौड़ाई छह फीट होगी। मूर्ति निर्माण के लिए जेड ब्लैक ग्रेनाइड पत्थर तेलंगाना से लाया जाएगा। प्रतिमा को अमर जवान ज्योति के स्थान पर स्थापित जाएगा। प्रतिमा को मूर्तिकार अद्वैत गडनायक बनाएंगे। अद्वैत राष्ट्रीय मॉर्डन आर्ट गैलरी के प्रमुख हैं।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर जर्मनी के भारतीय दूतावास में डॉ. अनीता बोस की मेजबानी की गई। इस मौके पर उन्हें डिनर पर आमंत्रित किया गया था।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...