तालिबान ने दारुल उलूम देवबंद में पढ़ाई नहीं की, ताकतें भ्रम फैला रही हैं

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष और दारुल उलूम के शैखुल हदीस मौलाना अरशद मदनी ने शुक्रवार को कहा कि तालिबान का दारूल उलूम देवबंद से कोई संबंध नहीं है। इतना ज़रूर है कि तालिबान देवबंद के महान स्वतंत्रता सेनानी शैखुल हिंद द्वारा देश को आज़ाद कराने के लिए चलाई गई रेशमी रुमाल तहरीक से जुड़े लोगों की औलादें हैं।

उन्होंने कहा कि तालिबान कैसी सरकार चलाएंगे यह अभी भविष्य के गर्भ में है। तालिबान को ‘सबका साथ-सबका विकास’ और सबकी सुरक्षा पर तवज्जो देकर सरकार चलानी चाहिए। अगर तालिबान भेदभाव बरतते हैं और अपनी बातों पर खरे नहीं उतरते हैं तो उनकी दुनिया मुखालिफत करेगी और हम भी उसी लाइन में खड़े नजर आएंगे। अरशद मदनी ने कहा कि यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि तालिबान देवबंद के पढ़े हुए हैं जबकि सच्चाई यह है कि तालिबान देवबंद के पढ़े हुए नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि देश की जंगे-आजादी की एक बड़ी मुहिम को चलाने वाले शैखुल हिंद मौलाना महमूद उल हसन देवबंद के थे और उन्होंने अफगानिस्तान पहुंचकर अंग्रेजों के खिलाफ रेशमी रुमाल तहरीक का बड़े पैमाने पर संचालन किया। इस मुहिम से जुड़े अफगानिस्तान के लोगों ने शैखुल हिंद को अपना आदर्श माना और उनकी ओर से जलाई गई आजादी की अलख को अपने अंदर जगाया। मौलाना मदनी ने कहा कि आज के तालिबान उन्हीं की औलाद या औलादों की औलादें हैं।

मौलाना अरशद मदनी ने तल्ख लहजे में कहा कि फिरकापरस्त ताकतें दारुल उलूम देवबंद को दहशतगर्दी का अड्डा बताती हैं। उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि हमारी तालीमात खुले हुए पन्नों की तरह है, जिन्हें कभी कोई भी आकर पढ़ सकता है। सभी के लिए दारुल उलूम के दरवाजे हमेशा खुले हुए हैं। उन्होंने कहा कि दारुल उलूम दीन और इस्लाम की तालीम देता है और इस्लाम ने हमेशा दुनिया मे शांति का परचम बुलंद किया है इसलिए पूरी दुनिया में इस्लाम जंगल में आग की तरह फैला है।

मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि देवबंद दारुल उलूम से पढ़कर गए लोग पूरी दुनिया में अमन का पैगाम दे रहे हैं। हाल ही में अफगानिस्तान पर तालिबान के काबिज होने पर उन्होंने कहा कि मेल-मिलाप किसी भी तबके के लिए मायने रखता है। उनके मुल्क अफगानिस्तान के अंदर भी अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक मौजूद हैं। अगर वह सभी के लिए समानता अपनाते हैं तो हम उनकी तारीफ करेंगे लेकिन अगर वह भेदभाव बरतते हैं और अपनी बातों पर खरा नहीं उतरते हैं तो पूरी दुनिया उनकी मुखालिफत करेगी और हम भी उसी लाइन में खड़े नजर आएंगे।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...