आमिर खान का वो वीडियो और गुरु रामदेव की ललकार..IMA से ‘जंग’ में पीछे हटने को तैयार नहीं बाबा रामदेव

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

आमिर खान का वो वीडियो और गुरु रामदेव की ललकार..IMA से ‘जंग’ में पीछे हटने को तैयार नहीं बाबा रामदेव

गुरु रामदेव ने जो वीडियो शेयर किया है, वह 2012 में प्रसारित सत्यमेव जयते के एक एपिसोड की क्लिप है। इसमें बताया गया है कि किस तरह डॉक्टर अपने फायदे के लिए मरीजों को कई गुना महंगी दवाएं खरीदने को विवश करते हैं।

देहरादून
एलोपैथिक डॉक्टरों और बाबा के बीच छिड़ा विवाद खिंचता जा रहा है। रामदेव किसी भी तरह पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। वह लगातार डॉक्टरों को चुनौती दे रहे हैं। अब बाबा रामदेव ने अभिनेता आमिर के होस्ट किए गए टेलीविजन शो ‘सत्यमेव जयते’ का एक काफी पुराना वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो को शेयर करके उन्होंने लिखा कि हिम्मत है तो आमिर खान के खिलाफ मोर्चा खोलें।

इस वीडियो में डॉ. समित शर्मा नाम के एक एलोपैथिक डॉक्टर बाजारों में उपलब्ध दवाओं की उच्च कीमतों के बारे में चर्चा करते दिख रहे हैं। बाबा ने लिखा, ‘इन मेडिकल माफियाओं में हिम्मत है तो आमिर खान के खिलाफ मोर्चा खोलें।’

‘सत्यमेव जयते’ का यह वीडियो किया शेयर
रामदेव ने जो वीडियो शेयर किया है वह 2012 में प्रसारित सत्यमेव जयते के एक एपिसोड की क्लिप है। इसमें बताया गया है कि किस तरह डॉक्टर अपने फायदे के लिए मरीजों को कई गुना महंगी दवाएं खरीदने को विवश करते हैं।

’50 गुना ज्यादा दामों पर बेचते हैं दवाएं’
वीडियो में डॉ. शर्मा कह रहे हैं, ‘दवाओं की वास्तविक कीमत काफी कम है। लेकिन जब हम उन्हें बाजार से खरीदते हैं, तो हमें वह दवाएं 50 गुना से ज्यादा रेट पर मिलती हैं। इन्हें ऊंचे दामों पर बेचा जाता है। भारत में 40 करोड़ से अधिक लोग अपने लिए दिन में दो वक्त की रोटी भी नहीं कर पाते हैं। क्या वे अधिक कीमत वाली दवाएं खरीद सकते हैं?’ इस बीच, आमिर खान चौंकते हुए पूछते हैं, ‘कई लोग इस कारण (उच्च कीमत) दवाएं खरीदने में विफल रहते हैं?’

क्या है जेनेरिक और ब्रैंडेड दवा में फर्क?
डॉ. शर्मा ने कहा, ‘डब्ल्यूएचओ का कहना है कि आजादी के 65 साल बाद भी 65 फीसदी भारतीय आबादी के पास उच्च कीमतों के कारण आवश्यक दवाओं तक पहुंच नहीं है।’ जेनेरिक मेडिसिन के बारे में वह समझाते हुए कहते हैं, ‘दवा का मूल सॉल्ट जेनेरिक होता है। अगर सरल भाषा में कहें तो किसी को अगर सुबह शाम दूध पीने की सलाह दी जाती है, यह जेनेरिक हुआ, लेकिन डॉक्टर कहता है कि फला की दुकान का दूध पिओ। जब मरीज डॉक्टर के बताए गए ब्रैंड की दवा लेने जाता है तो उसे मनमाने दामों पर मिलता है।’

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...