ट्विटर की नीतियों के खिलाफ कई देशो में बवाल, अब नाइजीरिया सरकार ने इस्तेमाल पर लगाया प्रतिबंध

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

भारत समेत दुनिया के कई देशों में ट्विटर की स्वघोषित नीतियों के खिलाफ जमकर बवाल मचा हुआ है। भारत में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के अकाउंट को अनवैरिफाइड करने के बाद यूटर्न लेने वाले ट्विटर पर नाइजीरिया ने बड़ी कार्रवाई की है। नाइजीरिया ने अपने देश में ट्विटर के इस्तेमाल पर अनिश्चितकाल के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। बताया जाता है कि कुछ दिन पहले ही ट्विटर ने नाइजीरियाई राष्ट्रपति मोहम्मद बुखारी के एक ट्वीट को अपने स्वघोषित नियम के खिलाफ मानते हुए डिलीट कर दिया था।

कॉरपोरेट अस्तित्व को खतरा पहुंचाने का दावा
नाइजीरियाई सरकार ने अपन बयान में कहा है कि ट्विटर का इस्तेमाल उनके देश के कॉरपोरेट अस्तित्व को खतरा पहुंचाने के लिए किया जा रहा था। हालांकि, सरकारी बयान में कहीं भी राष्ट्रपति के ट्वीट को डिलीट करने का उल्लेख नहीं किया गया है। वहीं ट्विटर ने इस ऐलान को बहुत चिंताजनक बताया है। नाइजीरयाई सरकार का दावा है कि ट्विटर दोहरे मानदंड अपना रही है। हालांकि, इसमें यह नहीं बताया गया है कि आखिर ट्विटर के चलते नाइजीरिया का कॉरपोरेट कैसे प्रभावित हो रहा था।

राष्ट्रपति के ट्वीट को डिलीट करने का क्या था मामला
दरअसल, कुछ दिन पहले ही नाइजीरिया के राष्ट्रपति मोहम्मद बुखारी ने एक ट्वीट में गृहयुद्ध का जिक्र करते हुए अपने विरोधियों पर निशाना साधा था। उन्होंने लिखा था कि ‘जो आज बुरा बर्ताव कर रहे हैं, उन्हें उसी भाषा से समझाया जाना चाहिए, जो वो समझते हैं।’ इस ट्वीट को 1 जून को ट्विटर ने गाइडलाइन का उल्लंघन बताकर हटा दिया था। जिसके बाद से ही सरकार और ट्विटर के बीच तनाव शुरू हो गया था।

भारत में क्या है बवाल?
भारत में ट्विटर के ऊपर यह आरोप लग रहे हैं कि वह यहां के कानूनों को मानने से इनकार कर रही है। भारत सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों को डिजिटल प्लेटफॉर्म्स के लिए नए दिशानिर्देशों को पालन करने को कहा था। इनके तहत सोशल मीडिया प्‍लेफॉर्म्‍स मसलन ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हॉट्सएप को अतिरिक्त जांच-परख को पूरा करना होगा। साथ ही सोशल मीडिया कंपनियों को मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल संपर्क कर्मी और निवासी शिकायत निपटान अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी। जिसके बाद कई कंपनियों ने तो इसे मान लिया है, लेकिन ट्विटर ने इनकार किया है।

उपराष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटाने पर बवाल
ट्विटर ने आज भारत के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू समेत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और कई अन्य नेताओं के अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया था। जिसके बाद दावा किया जा रहा था कि सरकार और ट्विटर के बीच बढ़े विवाद के कारण इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म मे यह कदम उठाया है। हालांकि, बाद में ट्विटर ने उपराष्ट्रपति के निजी अकाउंट को फिर से वैरिफाई कर दिया है। ट्विटर का दावा है कि नायडू का अकाउंट पिछले साल से इनेक्टिव था। इसलिए कंपनी की पॉलिसी के कारण इसे अनवैरिफाई किया गया था।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...