उत्तरी आयरलैंड को लेकर नहीं बन पा रही बात, G-7 समारोह तक पहुंचा ईयू और ब्रिटेन का विवाद,

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

यूरोपीय और ब्रिटेन के संघर्ष : यूरोपीय संघ और ब्रिटेन के बीच जारी विवाद की आंच G-7 शिखर सम्मेलन तक पहुंच गई है. इंग्लैंड में G-7 शिखर समारोह के आयोजन के बीच ब्रेक्जिट के कुछ समझौतों को लेकर ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के बीच तनाव गंभीर हो गया है. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने शनिवार को कहा कि अगर ईयू नियमों को लेकर सख्ती करता रहा है तो ब्रेक्जिट के बाद के समझौते टूट जाएंगे. जॉनसन ने G-7 समारोह से इतर जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों के साथ बैठकें कीं.

ब्रिटेन के शीर्ष राजनयिक द्वारा ईयू पर जानबूझकर सहयोग नहीं करने का आरोप लगाने के बाद जॉनसन ने यूरोपीय के नेताओं, यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उरसुला वॉन डर लेयेन और यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिचेल से भी मुलाकात की. बैठक के बाद जॉनसन ने दावा किया कि यूरोपीय बेक्जिट के बाद के सहमति को लेकर भावुक या उपयोगी रुख नहीं अपना रहा और यह रुख जारी रहने पर उन्होंने संयोग नियम के तहत सहमति को खत्म करने की चेतावनी दी  है.

उत्तरी आयरलैंड पर बढ़ रहा तनाव
यह मुलाकात कार्बिस बे के रिजॉर्ट में हुई जहां G-7 के नेता आए हैं. दोनों पक्ष उत्तरी आयरलैंड के मुद्दे पर बढ़ते राजनयिक तनाव के बीच गतिरोध की स्थिति में हैं. उत्तरी आयरलैंड ब्रिटेन का एकमात्र ऐसा क्षेत्र है, जिसकी सीमा यूरोपीय के सदस्य देश से लगती है. ईयू से ब्रिटेन के अलग होने के बाद कुछ सामानों के परिवहन पर पाबंदी लगी है और ईयू का आरोप है कि ब्रिटेन के बाकी हिस्सों से उत्तरी आयरलैंड में ऐसी वस्तुएं आ रही हैं और ब्रिटेन उन पर प्रतिबंध लगाने में देर कर रहा है.

शांति भंग होने का खतरा
ब्रिटेन का कहना है कि प्रतिबंधों के कारण व्यापार प्रभावित होगा और इससे उत्तरी आयरलैंड की शांति भंग होने का खतरा है. जॉनसन ने ‘स्काई न्यूज’ से कहा, ‘जिस सहमति पर हमने हस्ताक्षर किए वह बिल्कुल उचित है.’ साथ ही उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि ईयू द्वारा सहमति की जो विवेचन की जा रही है, वह भावुक या उपयोगी है.’ यूरोपीय संघ ने कहा है कि ब्रिटेन को सहमति का पूरा पालन करना चाहिए और अगर ब्रिटेन अगले महीने से इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स से पैकेटबंद मांस के साथ सॉस जैसे उत्पाद भेजने पर प्रतिबंध नहीं लगाता है तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...