एक ज़माना था देश की सम्पति बनाते थे, आज देश बेचने का प्रोग्राम बनाया जा रहा है। मोदी है तो मुमकिन है : सुरजेवाला

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

नई दिल्ली : केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी सरकारी संस्थानों का निजीकरण करने के मामले में विपक्षी दलों के निशाने पर बनी रहती है।

अब देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने देश की सरकारी संपत्तियों बेचने के लिए मोदी सरकार द्वारा एक नया प्रोग्राम बनाए जाने का ऐलान किया है।

बताया जा रहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन प्रोग्राम की शुरुआत करने जा रही हैं। जिसके जरिए
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्राउनफील्ड इंफ्रास्ट्रक्चर एसेट से पैसे जुटाने की कोशिश कर रही है।

इसके पीछे कारण ये दिया जा रहा है कि केंद्र सरकार इस वक्त पैसों की तंगी से जूझ रही है। इसलिए साल 2021-22 के बजट में एसेट मोनेटाइजेशन पर काफी जोर देने की घोषणा की गई थी।

इस वक्त प्रधानमंत्री मोदी देश में इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलेपमेंट के प्रोजेक्ट के लिए पैसे इक्क्ठा करने के नए रास्ते तलाश कर रही है। बताया जाता है कि नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन के तहत देश की कई सरकारी संपत्तियों को बेचकर पैसे जुटाए जाएंगे।

सरकारी संपत्तियों के मुद्रीकरण को सिर्फ वित्तपोषण का साधन ही नहीं। बल्कि ढांचागत परियोजनाओं के रखरखाव और विस्तार को बेहतर रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है।

इस मामले में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट में इस खबर को शेयर करते हुए लिखा है कि एक ज़माना था देश की सम्पति बनाते थे, और आज देश बेचने का प्रोग्राम बनाया जा रहा है। मोदी है तो ये भी मुमकिन है।

दरअसल केंद्र सरकार का कहना है कि देश में आई कोरोना महामारी की वजह से सरकार आर्थिक तंगी से जूझ रही है।

जबकि इसके विपरीत कोविद कॉल में सरकार द्वारा शुरू किए गए PM केयर्स फंड में देश विदेश से बड़े बड़े सेलेब्रिटीज़, खिलाड़ियों, व्यापारियों द्वारा बड़े स्तर पर पैसे दिए गए थे।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...