तुर्की के खतरनाक ड्रोन ने दुनिया में मचाई खलबली, अमेरिका और रूस भी हैरान

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

साल 2020। एक सैनिक रूसी टी-72 टैंक के पास खड़ा है। तभी ड्रोन से दागी गई एक मिसाइल आकर उससे टकराती है। पल भर में आग और धुएं के गुबार ने आसमान को ढंक लेता है। जब तस्वीर साफ होती है तो दिखता है कि उस जवान के दोनों पैर उड़ गए हैं, जबकि टैंक अब आग का गोला बन गई है। जी हां, यह घटना आर्मीनिया-अजरबैजान युद्ध की है। जिसमें नागोर्नो-काराबाख पर कब्जे को लेकर दोनों देशों ने दो महीने से भी ज्यादा समय तक एक दूसरे से युद्ध लड़ा।

कई युद्धों का रूख मोड़ चुके हैं अटैक ड्रोन
इस युद्ध के दौरान अजरबैजान ने तुर्की और इजरायल के ड्रोन्स का भरपूर इस्तेमाल कर युद्ध का रूख ही मोड़ दिया। आर्मीनिया के ऊपर रूस का हाथ होने के बावजूद उसे हार का सामना करना पड़ा। युद्ध में ड्रोन के इस्तेमाल और प्रभाव को देख अमेरिका और रूस तक हैरान थे। इस युद्ध के बाद दुनियाभर की सेनाएं दुश्मनों के खिलाफ युद्ध के लिए ड्रोन आर्मी को तैनात कर रही हैं।

अमेरिका रूस और ब्रिटेन परेशान
पिछले कई साल में छोटे-मोटे क्षेत्रीय संघर्ष में ड्रोन्स के इस्तेमाल ने अपनी उपयोगिता को बखूबी साबित किया है। इसलिए, आज के जमाने में ड्रोन को युद्धक्षेत्र के नए रणनीतिक और प्रभावशाली हथियार के रूप में देखा जा रहा है। अमेरिका-रूस और ब्रिटेन के कई सैन्य अधिकारी तुर्की और चीन में बने ड्रोन्स को लेकर गंभीर चिंता जता चुके हैं। ब्रिटेन के रक्षा सचिव बेन वालेस ने सीरिया में

तुर्की के ड्रोन को लेकर काफी सख्त बयान दिया था। उन्होंने तब कहा था कि तुर्की में बने ड्रोन वैश्विक भू-राजनीतिक हालात को बदल रहे हैं।

सस्ते ड्रोन की तरफ बढ़ रही दुनिया
तकनीकी विकास और वैश्विक प्रतिस्पर्धियों ने सस्ते विकल्प तैयार किए हैं। यही कारण है कि तुर्की को अब उसके ड्रोन के कई खरीदार भी मिल रहे हैं। पिछले साल तुर्की ने दुनिया के सामने अपना बायरकटार टीबी 2 सशस्त्र ड्रोन प्रदर्शित किया था। अमेरिकी MQ-9 की तुलना में तुर्की का TB2 हल्के हथियारों से लैस है। इसमें चार लेजर- गाइडेड मिसाइलें लगाई जा सकती हैं। इस ड्रोन को रेडियो गाइडेड होने के कारण 320 किमी के रेंज में ऑपरेट किया जा सकता है।

तुर्की के इस ड्रोन के कई बड़े खरीदार
तुर्की के इस ड्रोन को खरीदने में कई देशों ने रूचि दिखाई है। इसमें कतर और यूक्रेन भी शामिल हैं। इस ड्रोन को बायकर कंपनी ने तैयार किया है, जो इसके और अधिक घातक होने का दावा करती है। बायकर ने 1984 में ऑटो पार्ट्स बनाने का काम शुरू किया था, बाद में वह एयरोस्पेस इंडस्ट्री में शामिल हो गया। नाटो सदस्य पोलैंड ने पिछले साल ही कहा था कि वह तुर्की से 24 टीबी2 ड्रोन खरीदेगा। तुर्की का दावा है कि नाटो के कई दूसरे देश भी उसके साथ डील करने के लिए बातचीत कर रहे हैं।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...