ब्रिटेन के कोरोना यात्रा नियमों पर जमकर बरसे जयराम रमेश और शशि थरूर, जानें क्‍यों हो रही है आलोचना

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्रियों व कांग्रेस नेता जयराम रमेश और शशि थरूर ने ब्रिटेन के कोरोना से संबंधित यात्रा नियमों की सोमवार को जमकर आलोचना की, जिनके मुताबिक भारत में वैक्‍सीन की खुराक लेने वालों को टीका नहीं लगा हुआ माना जाएगा.

रमेश ने कहा कि इस फैसले में ‘नस्लवाद की बू’ आती है.

उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन ने कोरोना जोखिम स्तर के आधार पर, देशों के लिए तय विभिन्न श्रेणियों में से अधिकतर को चार अक्टूबर से खत्म करने का फैसला किया है.

इससे भारत को फायदा होगा और अब ब्रिटेन में टीके की खुराक लेने वाले भारतीय प्रवासियों पर अनिवार्य पीसीआर जांच के संबंध में कम भार आएगा.

हालांकि, उन देशों की विस्तृत सूची में भारत का नाम नहीं है, जिनके टीकों को इंग्लैंड में मान्यता प्राप्त है.

इसका मतलब है कि उन भारतीयों को अब भी रवाना होने से पहले आरटीपीसीआर जांच और ब्रिटेन पहुंचने पर भी आगे जांच से गुजरना होगा, जिन्होंने वैक्‍सीन की खुराक ली है.

इसके चलते यात्रा करने वाले भारतीयों को 10 दिन क्वारंटीन में रहना होगा. ब्रिटेन ने अमेरिका, यूरोप समेत दुनिया के कई देशों के टीकाकृत लोगों को यात्रा की अनुमति दी है, मगर भारतीयों को नहीं…

जयराम रमेश ने ट्वीट किया, वैक्‍सीन ब्रिटेन में विकसित हुआ है और भारत के सीरम इंस्टिट्यूट ने ब्रिटेन में भी इस वक्सीनशन की आपूर्ति की. इसको देखते हुए यह फैसला अजीबोगरीब लगता है. इसमें नस्लवाद की बू आती है….

शशि थरूर ने कहा कि ब्रिटेन में इस नियम के कारण ही उन्होंने कैम्ब्रिज में अपनी पुस्तक ‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग’ के ब्रिटिश संस्करण के विमोचन समारोह से खुद को अलग कर लिया है…

उन्होंने ट्वीट किया, यह बहुत आपत्तिपूर्ण बात है कि पूरी तरह टीकाकरण करा चुके भारतीय नागरिकों से कहा जाए कि वे ब्रिटेन पहुंचने पर अलग में रहें…

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, कम से कम एक साल तक इन नए नियमों के लागू रहने की उम्मीद है. इसकी अगली आलोचनान केवल 2022 की शुरुआत में निर्धारित है…

यूके के नए यात्रा नियमों के मुताबिक, ऑक्‍सफोर्ड-एस्‍ट्राजेनेका, फाइजर या मॉडर्ना जैसी वैक्‍सीन के दोनों डोज लेने वालों को ‘पूर्ण वैक्‍सीनेटेड’ माना जाएगा. वहीं जॉनसन एंड जॉनसन की पहली डोज लेने वालों को भी ‘पूर्ण वैक्‍सीनेटेड’ माना जाएगा.

इन नियमों के मुताबिक, ऑस्‍ट्रेलिया, एंटीगा एंड बारबूडा, बारबडोस, बहरीन, ब्रुनेई, कनाडा, डोमिनिका, इजरायल, जापान, कुवैत, मलेशिया, न्‍यूजीलैंड, कतर, सऊदी अरब, सिंगापुर, साउथ कोरिया और ताइवान में सरकारी अस्‍पतालों में वैक्‍सीन लगवाने वालों को भी ‘पूर्ण वैक्‍सीनेटेड’ माना जाएगा.

ब्रिटेन की ये सलाहकार भारत के लिए चिंता का विषय है, क्योंकि यहां वक्सीनशन सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला टीका है और यूके द्वारा इसको मान्यता नहीं देने के कारण छात्रों, पर्यटकों, व्यवसायियों और अन्य लोगों के लिए यात्रा में बाधा उत्पन्न होगी..

.
वक्सीनशन को पहले से ही विश्व स्वास्थ्य संगठन से ईयूए यानी आपातकालीन उपयोग की सहमति प्राप्त है.

ब्रिटेन सरकार का ये निर्णय ऐसे समय पर आया है जब दर्जनों यूरोपीय देशों जैसे कि फ्रांस, जर्मनी, स्वीडन और नीदरलैंड इत्यादि ने भारत निर्मित वक्सीनशन को मंजूरी दी है.

वक्सीनशन की दोनों डोज लगवाए व्यक्तियों को इन देशों में निगेटिव कोविड रिपोर्ट दिखाने की जरूरत नहीं है…

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...