यूपी जनसंख्या नियंत्रण कानून से हर वर्ग को होगा नुकसान : दारुल उलूम देवबंद

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

सहारनपुर : मशहूर इस्लामिक मदरसा दारुल उलूम देवबंद ने एक बयान जारी कर राज्य सरकार के जनसंख्या नियंत्रण बिल की आलोचना करते हुए कहा कि इससे समाज के हर वर्ग के लोगो को ठेस पहुंचेगी.

मदरसे के सदर, अबुल कासिम नोमानी ने कहा, यह नीति समाज के हर वर्ग के खिलाफ है। किस तरह की नीति उन परिवारों को बुनियादी सुविधाओं से वंचित करती है जिनके दो से अधिक बच्चे हैं.यह मानवाधिकारों के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि कानून के अनुसार, जिसके दो से अधिक बच्चे हैं, वह स्थानीय निकाय चुनाव नहीं लड़ पाएगा, उसे सरकारी नौकरियों नहीं मिलेगी और उसे कोई सरकारी सब्सिडी नहीं मिलेगी।

यह पूछे जाने पर क्या मदरसा सरकार से फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील करेगा, प्रवक्ता अशरफ उस्मानी ने कहा, हम अपील करने वाले कौन होते हैं? लेकिन हम कह सकते हैं ,कि यह सही नहीं है। उदाहरण के लिए, एक आदमी के तीन बच्चे हैं। अब उन बच्चों का क्या कसूर, क्यों उन्हें मूलभूत सुविधाओं से वंचित किया जा रहा है, यह न्याय नहीं है।

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा, दारुल उलूम को ऐसा बयान देने की कोई जरूरत नहीं थी। इसमें धर्म को क्यों घसीटा जा रहा है? हमारे पास दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी है और हम अभी भी बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। अभी इस पर कार्रवाई करने का सही समय है।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने जहां जनसंख्या कानून के विधेयक का समर्थन किया है, वहीं विहिप ने इस पर आपत्ति जताई है। राज्य विधि आयोग को लिखे अपने पत्र में, उन्होंने कहा कि एक बच्चे की नीति के मानदंड से विभिन्न समुदायों के बीच असंतुलन और बढ़ने की संभावना है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...