सफुरा ज़रगर को लेकर सोशल मीडिया पर बेहूदा बकवास, इसमें मोदी के करीबी नेता भी शामिल

नई दिल्ली: जामिया मिलिया इस्लामिया की छात्रा सफूरा ज़रगर को भड़काऊ भाषण के इलज़ाम में जेल की सलाखों में डाल दिया गया है और सफूरा को बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया पर आरोपों की बारिश हो रही है ।जामिया मिलिया इस्लामिया की छात्रा सफूरा ज़रगर को दिल्ली पुलिस ने यह जानते हुए भी गिरफ्तार किया है कि वह 3 महीने की प्रेग्नेंट हैं।

बता दें सफूरा की शादी पिछले साल दिल्ली में ही एक ऐसे परिवार में हुई जिसका संबंध कश्मीर के एक शिक्षित परिवार से है। सूत्रों के अनुसार ऐसी सूचना प्राप्त हुई है कि सफूरा के पति एक नौकरी पेशा हैं और उन्हें ऐसा लगता है कि उनके सामने आने से कठिन परिस्थितियों में शायद सफूरा की परेशानी में मज़ीद इज़ाफ़ा हो जाये , नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शनों में शामिल विश्वसनीय संस्था और दल लगातार कह रहे हैं कि सरकार सफूरा को केवल इसलिए निशाना बना रही है क्योंकि उसने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन में साहस के साथ हिस्सा लिया था

 

सफूरा की गिरफ्तारी के बाद से ही कुछ नफरती चिंटुओं ने सफूरा के खिलाफ सोशल मीडिया पर घृणा और आरोप की बरसात करने में लग गए हैं। सामाजिक मीडिया पर शाहीन बाग के नाम से एक और ट्रेंड चलाया गया जिसमें सफूरा के दामन को दागदार करने का प्रयास किया गया । यह प्रयास उन लोगों द्वारा हुईं जिनके संदेश सत्ताधारी दल के समर्थन से भरे होते हैं।उन्होंने पिछले दो दिनों में सफुरा के खिलाफ सोशल मीडिया पर ऐसे संदेशों लिखे जिसमें सफुरा को पति के बना प्रेगनेंट बनाने की कोशिस की गई , गंदे आरोप लगाए गए और भाजपा के नेता कपिल मिश्रा ने एक ट्वीट करके शर्मनाक बात कह दी कि “मेरे बयान को सफूरा प्रेग्नेंसी से मत जोड़ेये, में इस तरह का काम नहीं करता।

बता दें की दिल्ली हिंसा सेे पहले बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने सड़क से प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए एक बयान दिया था। जिस बयान के आधार पर कपिल मिश्रा पर भी दंगा भड़काने के आरोप लगा था। मगर उनके खिलाफ अब तक कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हुई है।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...