चुनाव में दलितों के पैर धोने की नौटंकी करने वाले मोदी दलित बेटी के गैंगरेप पर चुप क्यों है : RJD

किसी भी वीडियो को डाउनलोड करें बस एक क्लिक में 👇
http://solyptube.com/download

साल 2012 में दिल्ली के निर्भया कांड को लोग आज तक भुला नहीं पाए हैं. उस दौरान तत्कालीन यूपीए सरकार के खिलाफ बीजेपी के कई नेताओं ने विरोध प्रदर्शन किए थे.

खासतौर पर प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान लोगों से अपील की थी कि वह वोट देने के दौरान निर्भया कांड को याद रखें.

आज बीजेपी शासित राज्यों में हर दिन गैं गरेप और हत्या की घटनाएं घट रही है. लेकिन मोदी सरकार चुप्पी साधे तमाशा देखने का काम करती रही है.

हाल ही में घटे हाथरस कांड के बाद दिल्ली में 9 साल की दलित बच्ची भी गैं गरेप और ह त्या की शिकार हुई है.

इस मामले में बिहार के प्रमुख विपक्षी दल राजद ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि

चुनाव पूर्व दलितों के पैर धोने की नौटंकी करने वाले दलित लड़कियों के गैंगरेप पर चुप क्यों है? निर्भया कांड में गंदी राजनीति करने वाले दलित लड़की के रेप पर चुप क्यों है? आरएसएस और बीजेपी के लोग गुंडे, अपराधियों और बलात्कारियों के संरक्षक और संचालक है

राजद से पहले भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने भी इस घटना पर भाजपा को घेरा है. उन्होंने दिल्ली पहुंच कर पीड़ित परिवार के साथ मुलाकात भी की है.

गौरतलब है कि जब भी देश या किसी राज्य में चुनाव होते हैं. तो बीजेपी दलितों के घर जाकर खाना खाती है.

दलित महिलाओं के पैरों को साफ करने का ड्रामा करती है. लेकिन चुनाव खत्म होते ही सरकार के लिए दलितों का कोई अस्तित्व नहीं रहता.

गौरतलब है कि बीजेपी और आरएसएस के नेता दलित महिलाओं के साथ हैवानियत को अंजाम देने वाले उच्च जाति के लोगों को बचाने का काम करते आए हैं.

विपक्षी दलों द्वारा कई बार आरोप लगाए जा चुके हैं कि भाजपा चुनावों के दौरान तत्वों को सिर्फ वोट बैंक की तरह इस्तेमाल करती है. असल में भाजपा दलित विरोधी सरकार है.

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...