इलाहाबाद हाई कोर्ट में फिर हुई योगी सरकार की हार ,कोर्ट ने दी हिन्दू महिला को मुस्लिम पति के साथ रहने की अनुमति

लखनऊ :इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक मामले में सुनवाई के दौरान एक हिन्दू महिला को अपने मुस्लिम पति से मिलाते हुए कहा कि “उसके पास अपनी शर्तों पर अपना जीवन जीने का विकल्प है”।

न्यायमूर्ति पंकज नकवी और विवेक अग्रवाल की पीठ ने 18 दिसंबर को उस व्यक्ति द्वारा दायर एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर फैसला दिया, जिसमें उसने आरोप लगाया था कि उसकी पत्नी को उसके माता-पिता की शिकायत पर नारी निकेतन या बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) भेज दिया गया था।

16 दिसंबर को अदालत ने पुलिस को 18 दिसंबर को महिला को पेश करने के लिए कहा था। उक्त तिथि को, अदालत ने उस महिला से बातचीत की। दोनों जजों की बेंच को युवती ने अपने पति के साथ रहने की इच्छा जाहिर की।

इस पर बेंच ने कहा कि वह “वह बिना किसी प्रतिबंध या तीसरे पक्ष द्वारा बनाई जा रही बाधा के अपनी पसंद के अनुसार आगे बढ़ने के लिए स्वतंत्र है”। पीठ ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (CJM) के उस आदेश को भी रद्द कर दिया जिसके तहत युवती को नारी निकेतन भेजा गया था।

अदालत ने कहा कि महिला एक वयस्क थी, उसकी जन्मतिथि 4 अक्टूबर, 1999 थी और ट्रायल कोर्ट ने इस तथ्य पर ध्यान नहीं दिया। जबकि स्कूल प्रमाण पत्र पेश किया गया था, साथ ही ये भी कहा कि अगर कोई और सबूत हो तो भी उस पर भरोसा नहीं किया जाना चाहिए था।

Donate to JJP News
जेजेपी न्यूज़ को आपकी ज़रूरत है ,हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं,इसे जारी रखने के लिए जितना हो सके सहयोग करें.

Donate Now

अब हमारी ख़बरें पढ़ें यहाँ भी
loading...